WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

एम्स पीजी क्या है? AIIMS PG Details in Hindi 2024

Aiims भारत का सबसे बड़ा Medical Group है। जिसमें मरीजों के इलाज के साथ-साथ विद्यार्थियों को पढ़ने का भी अवसर मिलता है। यहां पर पढ़ाई करके विद्यार्थी फ्यूचर में डॉक्टर और वैज्ञानिक बनने के सपने को पूरा करते हैं। अधिकतर विद्यार्थी एम्स में डॉक्टर बनने के लिए ही जाते हैं। एम्स में एडमिशन से पहले एंट्रेंस एग्जाम को पास करना होता है। उसके पश्चात एम्स में विद्यार्थी को एडमिशन मिलता है। एम्स इंस्टीट्यूट में अंडर ग्रेजुएशन डिग्री के साथ-साथ पोस्ट ग्रेजुएशन डिग्री भी विद्यार्थियों के लिए उपलब्ध करवाई जाती है। आज क्या आर्टिकल में हम आपको AIIMS PG डिटेल इन हिंदी के बारे में डिटेल में जानकारी देने का प्रयास करेंगे।

AIIMS PG Kya Hota Hai

AIIMS PG Details in Hindi

Aiims ka full form All India Institute of Medical Sciences होता है। एम्स इंस्टीट्यूट में अंडरग्रैजुएट डिग्री के बाद उपलब्ध करवाई जाने वाली पोस्ट ग्रेजुएशन डिग्री जिसे एम्स पीजी कहा जाता है। यह विद्यार्थियों के लिए तब उपलब्ध होती है। जब विद्यार्थी अंडर ग्रेजुएशन की डिग्री को सफलतापूर्वक पास कर लेते हैं। जो विद्यार्थी अंडर ग्रेजुएशन डिग्री पूरी कर लेते हैं। उन विद्यार्थियों के लिए पोस्ट ग्रेजुएशन करना जरूरी होता है। पोस्ट ग्रेजुएशन के पश्चात ही विद्यार्थी किसी निश्चित पोस्ट के लिए कामयाब होते हैं। पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स 2 वर्षीय होते हैं। एम्स में कई प्रकार के पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स जैसे एमडी, एमएस एमसी इत्यादि होते हैं। इन पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स को विद्यार्थी एमबीबीएस की डिग्री पूरी करने के पश्चात कर सकता है।

एम्स पीजी में एडमिशन लेने के लिए जरूरी योग्यता

  1. जब विद्यार्थी अंडर ग्रेजुएशन डिग्री यानी कि MBBS या BDS की डिग्री कंप्लीट कर लेता है। तो उसके पश्चात विद्यार्थी को पीजी डिग्री के लिए योग्य माना जाता है और सबसे जरूरी शैक्षणिक योग्यता के तौर पर भी विद्यार्थी के पास एम बी बी एस या बी डी एस की डिग्री होना अनिवार्य रखा गया है।
  2. एम्स में पीजी में एडमिशन लेने से पहले विद्यार्थी के पास MBBS की डिग्री के साथ-साथ 12 महीने का अस्पताल ट्रेनिंग का सर्टिफिकेट भी होना अनिवार्य है।
  3. विद्यार्थी के एमबीबीएस की डिग्री में 55% अंक होने अनिवार्य है। आरक्षण वाली जातियों को एमबीबीएस की डिग्री में अंक की छूट दी गई है। यहां उन जातियों को 33% अंक होने पर भी एडमिशन दिया जा रहा है।
  4. एमबीबीएस और बीडीएस करते समय कोई भी विद्यार्थी यदि बीज की कक्षाओं में 2 से अधिक बार फेल हो गया है, तो ऐसे में विद्यार्थी एम्स में पीजी करने के योग्य नहीं होता है।
  5. एमबीबीएस और BDS करते समय विद्यार्थी यदि 2 बार फेल हुआ है, तो ऐसी परिस्थिति में 1 बार फेल होने पर 1% और 2 बार फेल होने पर 2% अंक उसके काट दिए जाते हैं।

एम्स पीजी के लिए एंट्रेंस एग्जाम

जब विद्यार्थी एम्स में एमबीबीएस करने के लिए एंट्रेंस एग्जाम में भाग लेकर एम्स में सिलेक्ट हो जाते हैं और वहां से एमबीबीएस की डिग्री हासिल करते हैं। तो उन विद्यार्थियों को दोबारा एम्स में किसी भी प्रकार के एंट्रेंस एग्जाम का सामना नहीं करना पड़ता है। लेकिन जो विद्यार्थी एमबीबीएस की डिग्री किसी अन्य कॉलेज से हासिल करते हैं। लेकिन अब उन्हें एम्स में पीजी की डिग्री लेनी है। तो ऐसे में विद्यार्थी को पुनः राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित होने वाले एम्स के एंट्रेंस एग्जाम में भाग लेना होगा और उसी एंट्रेंस एग्जाम और विद्यार्थी के बीच के अंकों के आधार पर विद्यार्थी को एम्स पीजी में एडमिशन दिया जाएगा।

AIIMS PG Entrance Exam में आवेदन कैसे करें

जो विद्यार्थी दूसरी कॉलेज से एमबीबीएस की डिग्री हासिल कर चुका है। उस विद्यार्थी को ऑफ एम्स में एडमिशन लेने के लिए एक एंट्रेंस एग्जाम में भाग लेना होगा उसके लिए उसे आवेदन करने की जरूरत होती है। हर साल नवंबर महीने में एम्स पीजी एंट्रेंस एग्जाम का आयोजन होता है। आवेदन की प्रक्रिया नीचे कुछ इस प्रकार से दी गई।

  1. सर्वप्रथम विद्यार्थी को aiims official website aiimsexams.ac.in पर जाना है। विद्यार्थी इस वेबसाइट के माध्यम से एंट्रेंस एग्जाम में आवेदन की प्रक्रिया को आगे बढ़ा सकता है।
  2. विद्यार्थी के सामने अब Entrance Exam Online आवेदन का Option दिखाई देगा उस पर Click करना है।
  3. जैसे ही आप क्लिक करते हैं, तो आपके सामने एक नया Tab Open होगा। उस पर Click करना है।
  4. यहां पर Registration Form को सही तरीके से भरना है।
  5. साथ ही साथ आपको अपने संपूर्ण दस्तावेज भी इस रजिस्ट्रेशन फॉर्म के साथ जमा करने हैं।
  6. दस्तावेज जमा करने के बाद आपको एंट्रेंस एग्जाम के लिए निर्धारित रजिस्ट्रेशन फीस ₹1000 जिसको ऑनलाइन माध्यम से भरकर अपने आवेदन फॉर्म को सबमिट कर देना है।

एंट्रेंस एग्जाम Aiims PG Syllabus 2024

एम्स में एंट्रेंस एग्जाम के सिलेबस के बारे में यदि हम बात करें तो एमबीबीएस के लिए होने वाले एंट्रेंस एग्जाम का सिलेबस और पीजी के लिए होने वाले एंट्रेंस एग्जाम का सिलेबस पूरी तरह से अलग है। पीजी के लिए होने वाले एंट्रेंस एग्जाम का सिलेबस एमबीबीएस की डिग्री के सभी विषयों पर ही निर्धारित होता है। यहां पर सामान्य ज्ञान के सवाल नहीं पूछे जाते हैं। मात्र एमबीबीएस की डिग्री के सवाल पर ही आधारित होता है।

एम्स पी जी कितने साल का होता है?

एम्स पीजी मुख्य रूप से 2 वर्षीय पोस्ट ग्रेजुएशन कोर्स है। लेकिन एमसीएच जो 6 वर्षीय कोर्स होता है। AIIMS PG करने के पश्चात विद्यार्थी Doctor बन जाता है।

People Also Read:-

मेडिकल लाइन में करियर कैसे बनाते हैं?

पोस्ट ग्रेजुएशन के बाद क्या करें करियर कैसे बनाएं?

12वीं के बाद NEET के बिना Medical Course List 2024.

12वीं बायोलॉजी के बाद क्या करें पूरी जानकारी?

2024 में गूगल से पैसा कमाने के 10 आसान तरीके.

निष्कर्ष

देश में हर विद्यार्थी का सपना डॉक्टर और इंजीनियर बनने का होता है। डॉक्टर बनने के लिए जरूरी पोस्ट ग्रेजुएशन के बारे में आज हमने इस आर्टिकल के जरिए महत्वपूर्ण जानकारी आप तक साझा की है। आज के आर्टिकल में हमने आपको एवं एम्स PG डिटेल इन हिंदी के बारे में डिटेल में जानकारी दी है। हमें उम्मीद है, कि हमारे द्वारा दी गई जानकारी आपके लिए उपयोगी साबित हुई होगी।