WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Army 2024 में Lieutenant Colonel/Leftinent Karnal कैसे बने?

वर्तमान समय का हर एक युवा जीवन में कुछ करना चाहता है, आगे बढ़ना चाहता है, सफल होना चाहता है, अपने और अपने परिवार का अपने देश का नाम रोशन करना चाहता है। इसके लिए वह कठिन परिश्रम करता है, विभिन्न प्रकार की नौकरियों के लिए आवेदन करता है, जिनमें सबसे अधिक युवा भारतीय सेना के लिए आवेदन करते हैं क्योंकि यह यह तो गर्व का और सम्मानित पद माना जाता है। इसीलिए समय-समय पर आयोजित होने वाली सैन्य भर्ती परीक्षाओं में लाखों और करोड़ों की संख्या में युवाओं द्वारा आवेदन किया जाता है। लेकिन उनमें से कुछ ही युवा सफल हो पाते हैं, उन भर्ती परीक्षाओं को पास करके Army Officer बन पाते हैं।

आमतौर पर सभी युवा भारतीय सेना में सैनिक के तौर पर ही आवेदन करते हैं‌। इसीलिए वहां अधिक कंपटीशन की वजह से उन्हें जगह नहीं मिल पाती है। अगर आप देश की सेवा करने के लिए जीवन में आगे बढ़ने के लिए कुछ बड़ा करने के लिए सफलता प्राप्त करने के लिए और सरकारी नौकरी के लिए आगे बढ़ना चाहते हैं और भारतीय सेना में ही रहना चाहते हैं, तो आप भारतीय सेना के तहत एक बड़े पद के लिए आवेदन कर सकते हैं। बड़े पद के लिए आपको अधिक मेहनत करनी होगी। परंतु आप वहां पर सम्मान और गर्व प्राप्त करेंगे। हम बात कर रहे हैं भारतीय सेना में Leftinant Karnal बनने की। अगर आप भारतीय सेना में लेफ्टिनेंट कर्नल बनते हैं, तो आपको अच्छा वेतन, मान सम्मान और सफलता देखने को मिलेगी।

लेफ्टीनेंट कर्नल कौन होता है? —

भारतीय सेना दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी सेना है जो काफी ताकतवर और लोकप्रिय भी है। दुनिया के कई देश भारतीय सेना की तारीफ कर चुके हैं और आज के समय में भारतीय सेना के पास हर तरह के उपकरण और हथियार मौजूद है। हर दिन भारतीय सेना द्वारा विभिन्न प्रकार के युद्ध अभ्यास किए जाते हैं। आपकी जानकारी के लिए बता देते हैं कि इंडियन आर्मी में लेफ्टिनेंट की पहली रैंक होती है जबकि लेफ्टिनेंट कर्नल की 6th रैंक होती है। लेफ्टिनेंट कर्नल की वर्दी पर 5 स्टार और एक अशोक स्तंभ लगा हुआ होता है।

Leftinent karnal kaise bane

लेफ्टिनेंट कर्नल बटालियन में Second Commanding Officer होता है। भारतीय सेना में Permanent Commission में लेफ्टिनेंट कर्नल की पोस्ट ग्रुप A के तहत आती हैं। अगर आप सीधा लेफ्टिनेंट कर्नल बनने के बारे में सोच रहे हैं तो हम आपको बता देते हैं कि आप गलत सोच रहे हैं, क्योंकि भारतीय सेना में लेफ्टिनेंट कर्नल direct नहीं बन सकते‌। यह प्रमोशन के बाद मिलने वाला एक पद है। इसके लिए सबसे पहले आपको इंडियन आर्मी में लेफ्टिनेंट बनना होता है‌। उसके बाद जब आपका प्रमोशन होता है, तो इंडियन आर्मी में लेफ्टिनेंट कर्नल बना दिया जाता है।

Leftinent Karnal बनने के लिए योग्यता —

भारतीय सेना में लेफ्टिनेंट कर्नल का पद कितना महत्वपूर्ण होता है, यह तो अब तक आप जान चुके हैं। तो अब आप यह भी जान लीजिए कि इंडियन आर्मी में लेफ्टिनेंट कर्नल बनने के लिए कौन-कौन सी योग्यता का होना जरूरी है? किन योग्यता के आधार पर लेफ्टिनेंट कर्नल बनाया जाता है? तो आइए जानते हैं —

  • लेफ्टिनेंट कर्नल बनने के लिए सबसे पहले 12वीं कक्षा पास होना जरूरी है।
  • 12वीं कक्षा पास करने के बाद इंडियन आर्मी में लेफ्टिनेंट कर्नल बनाने के लिए NDA का Exam देना होता है।
  • लेफ्टिनेंट कर्नल बनाने के लिए उम्मीदवार की आयु कम से कम 16 वर्ष निर्धारित की गई है।
  • इंडियन आर्मी में लेफ्टिनेंट कर्नल बनने के लिए उम्मीदवार की अधिकतम आयु सीमा 19 वर्ष निर्धारित की गई है।
  • लेफ्टिनेंट कर्नल बनने के लिए आरक्षित वर्ग के उम्मीदवारों को आयु सीमा में अतिरिक्त छूट दी गई है।
  • आर्मी में लेफ्टिनेंट कर्नल बनने के लिए TES का एग्जाम देने वाले कैंडिडेट्स का साइंस स्ट्रीम से 12th पास होना जरूरी होता है।
  • TES Exam वाले लेफ्टिनेंट कर्नल उम्मीदवार को 12th क्लास में 70% अंक प्राप्त करने अनिवार्य है।
  • लेफ्टिनेंट कर्नल के उम्मीदवार जो TES Exam देने वाले हैं, उनके लिए 16 वर्ष से 19 वर्ष के बीच आयु सीमा निर्धारित की गई है।
  • TES Exam वाले लेफ्टिनेंट कर्नल उम्मीदवार जो आरक्षित वर्ग से संबंध रखते हैं, उनके लिए आयु सीमा में अतिरिक्त छूट का प्रावधान किया गया है।
  • यदि आप लेफ्टिनेंट कर्नल के लिए CDS का Exam देते हैं, तो इसके लिए आपके पास ग्रेजुएशन की डिग्री होनी चाहिए।
  • CDS की परीक्षा देने वाले लेफ्टिनेंट कर्नल कैंडिडेट्स की आयु सीमा 19 वर्ष से 24 वर्ष के बीच निर्धारित की गई है।
  • CDS परीक्षा देने वाले लेफ्टिनेंट कर्नल कैंडिडेट जो आरक्षित वर्ग से संबंध रखते हैं उन्हें आयु सीमा में अतिरिक्त छूट प्रदान की गई है।

लेफ्टीनेंट कर्नल बनने के लिए Selection Process—

लेफ्टीनेंट कर्नल बनने के लिए 3 तरीके उपलब्ध है। आप तीन प्रकार में से किसी एक प्रकार का चयन करके इंडियन आर्मी में लेफ्टिनेंट कर्नल बन सकते हैं। पहला NDA, दूसरा TES एवं तीसरा CDS है। इन तीनों में से किसी भी परीक्षा का चयन करके उसके तहत इंडियन आर्मी लेफ्टिनेंट कर्नल बन सकते हैं। तो आइए इनके बारे में विस्तार से जान लेते हैं—

NDA से लेफ्टिनेंट कर्नल कैसे बने? —

NDA का फुल फॉर्म National Defence Academy होता है, जिसे हिंदी में राष्ट्रीय रक्षा अकादमी कहते हैं। यह एग्जाम UPSC द्वारा साल में 2 बार आयोजित करवाया जाता है। अगर आप NDA एग्जाम पास कर लेते हैं तो आपको 3 साल के लिए ट्रेनिंग पर भेजा जाता है। इसकी ट्रेनिंग खड़कवासरा पुणे में होती है। 1 साल की ट्रेनिंग इंडियन मिलिट्री अकादमी में होती है। उसके बाद आप परमानेंट कमीशन में लेफ्टीनेंट बन जाते हैं।

2. NDA द्वारा सिलेक्शन प्रोसेस —

NDA के तहत इंडियन आर्मी में लेफ्टिनेंट कर्नल बनने के लिए सबसे पहले आपका रिटेन एग्जाम होता है और उसके बाद इंटरव्यू लिया जाता है। अगर आप इन दोनों ही परीक्षा में पास हो जाते हैं, तो आपको आर्मी में मेजर की पोस्ट पर नियुक्त कर दिया जाता है और ट्रेनिंग के लिए भेज दिया जाता है।

  1. Written Exam — NDA रिटन एग्जाम में 2 पेपर होते हैं। पहला पेपर गणित विषय का और दूसरा पेपर जनरल एबिलिटी का होता है। गणित विषय के पहले पेपर में 300 अंक निर्धारित किया गया है जबकि दूसरा जनरल एबिलिटी वाला पेपर 600 अंकों के साथ आता है। इस परीक्षा के लिए आपको 2:30 घंटे का समय दिया जाता है। इस परीक्षा में सभी प्रश्न बहुविकल्पीय होते हैं यानी आपको प्रत्येक प्रश्न के उत्तर के लिए एक से अधिक विकल्प देखने के लिए मिल जाता है‌।
  2. Interview — NDA Written Exam पास करने वाले उम्मीदवारों को इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है। यह इंटरव्यू SSB के द्वारा लिया जाता है। इस इंटरव्यू में साइकोलॉजिक एवं सब्जेक्ट तथा इंटेलिजेंस से संबंधित प्रश्न पूछे जाते हैं, जिनका सही ढंग से उत्तर देना जरूरी है। इंटरव्यू पास करने के बाद आपको आर्मी में मेजर की पोस्ट पर नियुक्त करके ट्रेनिंग के लिए भेज दिया जाएगा।

TES Exam द्वारा सिलेक्शन प्रोसेस —

TES का full form Technical Entry Scheme होता है। यह एग्जाम UPSC द्वारा साल में 2 बार कराया जाता है। अगर आप TES Exam पास कर लेते हैं तो आपको इसकी ट्रेनिंग के लिए OTA यानी ऑफिसर ट्रेनिंग अकादमी भेज दिया जाता है‌। आपकी जानकारी के लिए बता देते हैं कि इसकी ट्रेनिंग 4 साल की होती है। अगर आप 4 साल की ट्रेनिंग पूरी कर लेते हैं तो आपको लेफ्टीनेंट कर्नल बना दिया जाता है।

TES Exam — TES एग्जाम के तहत आर्मी में लेफ्टिनेंट कर्नल बनने के लिए आपको रिटन टेस्ट नहीं देना होता है। TES एग्जाम के तहत आपका सिलेक्शन 12th क्लास के नंबरों के आधार पर किया जाता है और इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है। इस इंटरव्यू में आपको इंटेलिजेंस एवं साइकोलॉजि से संबंधित कुछ प्रश्न पूछे जाते हैं। अगर आप इंटरव्यू के लिए कर देते हैं तो आखिर में आपका मेडिकल टेस्ट होता है।

CDS Exam द्वारा Selection Process—

CDS का फुल फॉर्म Combined Defence Service होता है। CDS Exam साल में 2 बार कराया जाता है। एग्जाम पास करने वाले उम्मीदवारों को ट्रेनिंग के लिए इंडियन मिलिट्री अकादमी देहरादून भेज दिया जाता है। 2 साल की ट्रेनिंग पूरी कर लेने के बाद आप आर्मी में लेफ्टीनेंट कर्नल बन सकते हैं।

  1. CDS Written Exam — CDS एग्जाम के तहत आर्मी लेफ्टिनेंट कर्नल बनने के लिए आपको रिटन एग्जाम देना होगा। इस एग्जाम में जनरल नॉलेज एवं एलिमेंट्री गणित से संबंधित प्रश्न पूछे जाएंगे। यह प्रश्न पत्र 100 अंकों का होता है जिसके लिए 2 घंटे का समय निर्धारित किया गया है। इस प्रश्न पत्र में सभी प्रश्न ऑब्जेक्टिव टाइप के होते हैं। इस परीक्षा को पास करने वाले उम्मीदवारों को इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है।
  2. CDS Interview — अगर आप CDS रिटेन एग्जाम पास कर लेते हैं तो आपको इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है। यह इंटरव्यू SSB द्वारा लिया जाता है। इस इंटरव्यू में आपसे जनरल नॉलेज के प्रश्न पूछे जाएंगे। इसे इंटरव्यू को पास करने वाले उम्मीदवारों को लेफ्टिनेंट कर्नल की पोस्ट के लिए ट्रेनिंग पर भेज दिया जाता है।

लेफ्टीनेंट कर्नल की सैलरी कितनी होती है? (Lieutenant Colonel Salary In Indian Army)—

इंडियन आर्मी में लेफ्टिनेंट कर्नल का पद क्या होता है? उस पद की क्या अहमियत है और उस पद पर कार्यरत होने के लिए क्या-क्या करना होता है? कौन-कौन सी परीक्षा पास करनी होती है? कौन से इंटरव्यू देने होते हैं और किस प्रकार से Training होती है? कितना समय लगता है? यह सब आप अब तक जान चुके हैं। तो अब आप यह भी जान लीजिए कि भारतीय सेना में लेफ्टिनेंट कर्नल की सैलरी कितनी होती है? आपकी जानकारी के लिए बता देते हैं कि भारतीय सेना में लेफ्टिनेंट कर्नल को हर महीने सैलरी के रूप में ₹56000 मिलते हैं। यह शुरुआती सैलरी है। समय के साथ सैलरी में वृद्धि होती हैं और हर महीने अन्य भत्ते भी दिए जाते हैं। तो इस प्रकार एक लेफ्टिनेंट कर्नल को हर महीने कुल 70,000/- से 75,000/- सैलरी के रूप में मिल जाते हैं।

People Also Read:-

Indian Coast Guard Assistant Commandant क्या होता है?

CRPF में ASI क्या होता है कैसे बनते हैं?

इंडियन आर्मी में क्लर्क कैसे बनते हैं?

Army Solider GD क्या होता है कैसे बने?

Conclusion

भारतीय सेना में नौकरी करना एक गर्व और सम्मान का विषय माना जाता है। यहां पर गर्व की अनुभूति होती है और समाज में सम्मान मिलता है। समाज के लोग सम्मान की नजर से देखते हैं। इसके अलावा अच्छा वेतन और विभिन्न प्रकार की सरकारी सुविधाएं मिलती हैं तथा देश की सेवा करने का भी अवसर मिलता है। अगर भारतीय सेना में कोई बड़ा पद मिल जाए, तो यह उससे भी बड़े गर्व की बात होती है। तो आज के इस आर्टिकल में हम आपको भारतीय सेना में लेफ्टिनेंट कर्नल बनने के बारे में पूरी जानकारी बता चुके हैं। इस आर्टिकल को पढ़कर आप यह समझ सकते हैं कि भारतीय सेना में लेफ्टिनेंट कर्नल कैसे बनते हैं? लेफ्टिनेंट कर्नल बनने का क्या प्रोसेस है? और लेफ्टिनेंट कर्नल की सैलरी कितनी होती है? हमें उम्मीद है यह जानकारी आपको जरूर पसंद आई होगी। अगर आपका कोई प्रश्न है? तो कमेंट करके पूछ सकते हैं। अन्यथा इस आर्टिकल को अपने मित्रों के साथ जरूर शेयर करें।