WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

सीएमओ क्या है कैसे बने? CMO Full Form से Salary पूरी जानकारी

अगर आप CMO बन जाते हैं तो यह आपके लिए एक सम्मानजनक पद होगा और आप बेहतरीन जीवन यापन करेंगे। लेकिन अधिकांश लोगों को इस पद के बारे में जानकारी भी नहीं है, तो हम आपको आज के इस आर्टिकल में CMO के बारे में पूरी जानकारी विस्तार पूर्वक बताएंगे कि CMO क्या होता है और CMO कैसे बनते हैं?

वर्तमान समय में हर एक व्यक्ति अपने जीवन को बेहतर बनाने के लिए एक से बढ़कर एक नौकरी हेतु तैयारी करता है और हमेशा बेहतरीन नौकरी की तलाश में रहता है, जिससे उसे अच्छी सम्मानजनक और महत्वपूर्ण नौकरी मिलें। ताकि वह एक बेहतरीन जीवन यापन कर सकें। इसके लिए व्यक्ति द्वारा विभिन्न प्रकार की नौकरियों के लिए प्रयत्न किया जाता है जिनमें कुछ लोग सफल होते हैं और कुछ लोगों को सफलता भी हासिल होती है। परंतु आमतौर पर लोग Engineer या फिर Doctor बनने के लिए ही कोशिश करते हैं। अधिकांश लोगों को काफी महत्वपूर्ण पदों के बारे में जानकारी भी नहीं होती है।

बता दें कि आज के समय में हर एक को फील्ड में अनेक सारे पद होते हैं क्योंकि वर्तमान समय में किसी भी कार्य को आसान बनाने के लिए उस कार्य को अलग-अलग श्रेणी से होकर गुजर ना होता है और उन सभी श्रेणी के आधार पर पद निर्धारित किए गए हैं। आज के इस आर्टिकल में हम आपको CMO के बारे में बताएंगे।

CMO Kya Hota Hai? —

CMO ka Full Form (Chief Medical Officer) होता है जिसे हिंदी में हम “मुख्य चिकित्सा अधिकारी” कहते हैं। बता देते हैं कि यह सरकार में एक स्वास्थ्य मामलों के प्रमुख सलाहकार होते हैं। जिला स्तर पर मुख्य चिकित्सा सम्बन्धी गतिविधियों की निगरानी और इस विभाग से सम्बन्धित सभी कार्यों के लिए उत्तरदायी होता है। यह पद चिकित्सक द्वारा निर्धारित किया जाता है जो कि सार्वजनिक स्वास्थ्य महत्व के मामलों पर चिकित्सा विशेषज्ञों की एक टीम का नेतृत्व करते हैं। CMO को वरिष्ठ सरकारी अधिकारी भी कहा जाता है, जो सरकारी हॉस्पिटल के मेडिकल विभाग के प्रमुख होते हैं। इनका काम सार्वजनिक स्वास्थ्य के मामले को सुलझाना भी होता है।

CMO kaise bane cmo ka full form

CMO यानी मुख्य चिकित्सा अधिकारी या वरिष्ठ चिकित्सा अधिकारी होता है, जो चिकित्सा विशेषज्ञों की टीम का नेतृत्व और मार्गदर्शन करता है और सार्वजनिक स्वास्थ्य के सभी मामलों को भी देखता है। अगर हम इसे आपको आसान भाषा में बताएं तो मुख्य चिकित्सा अधिकारी मेडिकल क्षेत्र का एक ऐसा वरिष्ठ अधिकारी होता है जो अपने क्षेत्र के सरकारी अस्पतालों के माध्यम से जनता को प्रदान की जाने वाली स्वास्थ्य सेवाओं की देखभाल और विकास का जायजा लेता है और उन्हें बेहतर बनाने की हमेशा कोशिश करता है। इस कार्य में जो भी बाधा आती है तो उसे इस अधिकारी द्वारा हल किया जाता है और लोगों को बेहतर से बेहतर सुविधा प्रदान करने की कोशिश की जाती है।

वर्तमान समय में भारत दुनिया की सबसे अधिक आबादी वाला देश हो चुका है। ऐसी स्थिति में भारत को किसी भी रुप से संभालना काफी मुश्किल है। लेकिन भारत के एक छोटे से जिले के आधार पर भी एक मेडिकल क्षेत्र को भी निर्देश एवं नियंत्रण के अंतर्गत विभाजित किया गया है। इसी मेडिकल क्षेत्र के तहत यह पद निर्धारित किया जाता है। इस पद पर कार्यरत व्यक्ति अपने जिले के अंतर्गत आने वाले सभी सरकारी अस्पतालों को पहुंचने वाली सरकारी सुविधाओं का जायजा लिया जाता है। सरकारी सुविधा जनता तक कितनी पहुंच रही है किस तरह से पहुंच रही है या क्या वाकई में जनता को सरकारी अस्पतालों के जरिए सुविधा मिल रही है या नहीं और इसमें कौन-कौन सी बाधाएं आ रही है। इन सभी का काम CMO द्वारा किया जाता है।

CMO बनने के लिए क्या योग्यता होनी चाहिए —

सीएमओ का पद कितना महत्वपूर्ण होता है, यह बात तो अब तक आप जान गए हैं। तो अब हम यह भी जान लेते हैं कि इस महत्वपूर्ण पद पर कार्यरत होने के लिए कौन-कौन सी योग्यता निर्धारित की गई है, यानी सीएमओ बनने के लिए हमें कौन-कौन सी योग्यता और पात्रताओं को साबित करना होगा। उसके बाद ही हम सीएमओ बन पाएंगे, तो आइए जानते हैं कि सीएमओ बनने के लिए कौन-कौन सी योग्यता निर्धारित की गई है —

  • अभ्यर्थी का कम से कम 12वीं कक्षा पास होना जरूरी है।
  • इस पद के लिए अभ्यर्थी को 12वीं कक्षा में कम से कम 55% अंक हासिल करने होंगे।
  • बारहवीं कक्षा को किसी भी मान्यता प्राप्त शिक्षण संस्थान से पास कर सकते हैं।
  • कैंडिडेट का बारहवीं कक्षा का सब्जेक्ट Biology ही होना चाहिए।
  • कैंडिडेट को अच्छी तरह से अंग्रेजी भाषा का ज्ञान होना चाहिए।
  • बारहवीं कक्षा के अलावा किसी भी सब्जेक्ट में ग्रेजुएशन करने वाला व्यक्ति भी आवेदन कर सकता है।
  • सीएमओ बनाने के लिए कैंडिडेट की आयु सीमा कम से कम 21 वर्ष निर्धारित की गई है।
  • CMO पद के लिए अधिकतम आयु सीमा 35 वर्ष निर्धारित की गई है।
  • इस पद के लिए कैंडिडेट की आयु सीमा में एससी एसटी वर्ग के लोगों को 5 वर्ष की छूट प्रदान की जाती है।
  • इस पद के लिए आवेदन करने वाले ओबीसी वर्ग के छात्रों को 3 वर्ष की छूट प्रदान की जाती है।
  • CMO पद के लिए आवेदन करने वाले अभ्यर्थी को इस पद पर रुचि होनी चाहिए

CMO का क्या काम होता है? —

  • CMO का पद जिला स्तर पर पोस्ट होता है, तो इन्हें अपने जिले के अंतर्गत स्वास्थ्य व्यवस्था और समस्या की जांच करनी होती है।
  • सीएमओ के अंतर्गत आने वाले जिले में स्वास्थ्य से संबंधित कौन-कौन सी समस्याएं हैं? यह जानना और उसका समाधान करना होता है।
  • अपने जिले के अंतर्गत मिलने वाली सरकारी स्वास्थ्य सुविधाएं जनता तक पहुंच रही है या नहीं, इस बात की जानकारी प्राप्त करना।
  • अपने जिले के अंतर्गत आने वाले सभी सरकारी अस्पतालों के तहत स्वास्थ्य व्यवस्था का जायजा लेना।
  • अपने जिले के अंतर्गत मेडिकल स्टोर पर किस तरह की दवाइयां वितरण हो रही है, यह देखना।
  • अपने जिले के अंतर्गत अवैध रूप से दवाइयां या समझते सेवाओं का कारोबार तो नहीं चल रहा, इस बारे में भी जानकारी प्राप्त करना।
  • अपने जिले के अंतर्गत यह देखना कि कहीं कोई व्यक्ति बिना जानकारी के तो Doctor बनकर नहीं बैठ गया।
  • अपनी पूरी टीम के साथ जिले में स्वास्थ्य क्षेत्र में तरह-तरह की जांच करना।
  • अपने जिले के अंतर्गत प्रशिक्षण कार्यक्रमों, खाली पदों और चिकित्सालय के बजट का प्रबंधन भी करना।
  • चिकित्सकों और अस्पतालों के अन्य कर्मचारियों के बीच एक कड़ी के रूक में कार्य करना।
  • अगर कोई काम के दौरान अनुपस्थित पाया जाता है, तो उसका वेतन रोक देना तथा स्थानांतरण करना।
  • अपने जिले के अंतर्गत स्वास्थ्य क्षेत्र के तहत सरकारी और प्राइवेट अस्पताल एवं मेडिकल पर जांच करना।
  • अपने जिले के अंतर्गत स्वास्थ्य से संबंधित जनता से जानकारी और राय प्राप्त करना।
  • अपने जिले के अंतर्गत स्वास्थ्य से संबंधित कोई समस्या आ रही है तो उसका समाधान करना।

People Also Read:-

CHO क्या होता है कैसे बनते हैं पूरी जानकारी?

MD (Medicine Doctor) क्या होता है कैसे बने?

मेडिकल में BAMS क्या होता है कैसे करें?

B.Pharma क्या होता है कैसे करें पूरी जानकारी?

मेडिकल क्षेत्र में BNYS Course क्या होता है कैसे करें?

CMO Kaise Bane?

CMO इतना महत्वपूर्ण पद है और यह आपके लिए कितना जरूरी हो सकता है। यह बात आप अब तक भली-भांति जान गए हैं, तो अब आप यह भी जानना चाहते हैं कि सीएमओ कैसे बनते हैं? CMO बनने के लिए किस प्रक्रिया को फॉलो करना होता है. तो आइए इस आर्टिकल में हम आपको सीएम बनने की प्रक्रिया बता रहे हैं —

1. 10th पास करें — सबसे पहले आपको अच्छे अंको से दसवीं कक्षा पास करनी चाहिए। ऐसा करने से आगे प्रक्रिया के दौरान आपको काफी आसानी होगी। विशेष रुप से 12वीं कक्षा की पढ़ाई करते समय आपको काफी लाभ मिलेगा। इसीलिए अगर आप पहले से ही CMO बनाने की सोच रहे हैं, तो दसवीं कक्षा के दौरान आपको अच्छे अंक हासिल करने चाहिए।

2. 12th पास करें — अब आपको बाहरी कक्षा के लिए admission लेना होगा। 12वीं कक्षा को आप किसी भी मान्यता प्राप्त शिक्षण संस्थान अथवा बोर्ड से पास कर सकते हैं। लेकिन इसमें आपको कम से कम 50 से 60% अंक प्राप्त करने होंगे। 12वीं कक्षा को Physics, Chemistry और Biology Subject के साथ पास करना अनिवार्य है।

3. एमबीबीएस कोर्स करें — अब आपको मेडिकल क्षेत्र में जाने के लिए MBBS Degree का Course करना होगा। इस कोर्स के लिए पहले NEET प्रवेश परीक्षा पास करनी होगी। अच्छे अंको से नीट परीक्षा पास करने के बाद 4 साल के एमबीबीएस कोर्स को पूरा करने के 1 साल बाद इंटरशिप कोर्स भी करना होगा।

4. UPSC CMS एग्जाम को दें — MBBS डिग्री कोर्स हासिल करने के बाद UPSC के द्वारा आयोजित कंबाइंड मेडिकल सर्विस CMS परीक्षा के द्वारा सरकारी अस्पताल के लिए मेडिकल ऑफिसर के रूप में आपको चयनित कर दिया जाता है। यहां पर आपको बहुत कुछ सीखने को मिलता है यहां पर आपका अनुभव भी बढ़ जाता है।

5. CMO Officer बनें — सरकारी अस्पताल में मेडिकल ऑफिसर के रूप में चयनित होने के बाद आपको अच्छा काम करना होता है। साथ ही साथ हर रोज कुछ नया नया सीखना चाहिए, ऐसा करने पर आपके अनुभव और कुछ वर्षों के कार्य के आधार पर आपका प्रमोशन कर दिया जाता है और प्रमोशन होने के बाद आप एक CMO officer बन जाते हैं।

सीएमओ की सैलरी कितनी होती है? (CMO Salary in India 2023) —

CMO के पद पर काम करने वाले कैंडिडेट की सैलरी समय के साथ बढ़ती रहती है और अनुभव के साथ पर प्रमोशन पर भी बदल जाती है। लेकिन आमतौर पर शुरुआती समय में एक सीएमओ अधिकारी को हर महीने सैलरी के रूप में तकरीबन ₹45000 मिलते हैं। इससे पहले सरकारी अस्पताल में मेडिकल ऑफिसर के रूप में काम करते समय तकरीबन 25 से ₹30000 मिलते हैं, जो Promotion होने के बाद सीएमओ बनते ही 45000 से 50000 के बीच हो जाते हैं। इसके बाद भी समय के साथ सैलरी बढ़ती रहती है। सैलरी के अलावा इस पद पर कार्यरत अधिकारी को अन्य सरकारी सुविधाएं भी प्रदान की जाती है और विभिन्न प्रकार के बच्चे भी उपलब्ध कराए जाते हैं।

Conclusion

CMO (Chief Medical Officer) का पद काफी महत्वपूर्ण होता है परंतु अधिकांश लोगों को इस बारे में जानकारी भी नहीं होती है। अगर आप भी सही दिशा में मेहनत नहीं कर रहे हैं, तो आपको अपने बेहतर भविष्य के लिए सही दिशा में अभी से मेहनत और काम करना शुरू कर देना चाहिए। अगर आप CMO पद के लिए आवेदन करते हैं और CMO बन जाते हैं, तो यह आपके लिए एक बेहतरीन और सम्मानजनक पद होगा तथा आप एक बेहतर जीवन यापन कर पाएंगे। तो CMO क्या होता है? तथा सीएमओ कैसे बनते हैं? सीएमओ का क्या कार्य है? सीएमओ की सैलरी कितनी है? इत्यादि सीएमओ से संबंधित पूरी जानकारी आज के इस आर्टिकल में हम आपको विस्तार पूर्वक बता चुके हैं। उम्मीद करते हैं यह जानकारी आपको जरूर पसंद आई होगी। अगर आपका कोई प्रश्न है? तो कमेंट करके पूछ सकते हैं।