College Lecturer कैसे बने? 2022 में कॉलेज लेक्चरर बनने की सम्पूर्ण जानकारी।

विद्यार्थी शुरुआत से ही अपने भविष्य के लिए अलग-अलग तरह के सपने सजा कर बैठता है। विद्यार्थी अपने जीवन में एक उच्च पद पर नौकरी पाने की चाहत रखता है। विद्यार्थी की रुचि यदि पढ़ाई में रहती है तो विद्यार्थी कोई न कोई बड़ा पद हासिल करने का सपना अवश्य देखता है।

हालांकि कई विद्यार्थी ऐसे भी हैं, जिन्हें पढ़ाई में मन नहीं है लेकिन जो विद्यार्थी सीरियस तरीके से पढ़ाई कर रहे हैं। ऐसे में उनका और उनके परिवार वालों का हमेशा ऊंचे पद पर नौकरी हासिल करने का सपना होता है। कॉलेज लेक्चरर पद पर नौकरी हासिल करना भी एक बहुत बड़ा ख्वाब है और लाखों लोग इस ख्वाब को पाने के लिए रात-दिन मेहनत कर रहे हैं।

कॉलेज लेक्चरर बनने का सपना लेकर घूमने वाले विद्यार्थी को कॉलेज लेक्चरर कैसे बने? इसके बारे में जानकारी लेना जरूरी है। कॉलेज लेक्चरर कैसे बने? इस सपने को पूरा करने के लिए इस आर्टिकल को पढ़ें इस आर्टिकल में हम आपको कॉलेज लेक्चरर कैसे बने? के बारे में जानकारी देने का प्रयास करेंगे?

कॉलेज लेक्चरर क्या होता है?

विद मेट जब स्कूल में बच्चों को पढ़ाता है। तो उस उम्मीदवार को अध्यापक का नाम दिया जाता है। लेकिन कॉलेज के बच्चों को पढ़ाने वाले अध्यापक को कॉलेज लेक्चरर कहा जाता है। एजुकेशन और पढ़ाई करवाने के क्षेत्र में कॉलेज लेक्चरर का पद सबसे ऊंचा पद माना जाता है। कॉलेज लेक्चरर बनकर उम्मीदवार कॉलेज में पढ़ने वाले विद्यार्थी को पढ़ा सकता है।

कॉलेज लेक्चरर बनने के लिए क्या जरूरी होता है और कॉलेज लेक्चर कैसे बन सकते हैं। इसकी जानकारी हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से नीचे डिटेल में प्रदान कराते रहेंगे। आप इस आर्टिकल को अंत तक पढ़े।

कॉलेज लेक्चरर कैसे बने? (College Lecturer kaise bane)

college lecturer kaise bane

जो विद्यार्थी कॉलेज लेक्चरर बनना चाहते हैं। उन विद्यार्थी को कई प्रकार की योग्यता पूरी करनी होगी। योग्यता को पूरी करते हुए ही विद्यार्थी आगे जाकर कॉलेज लेक्चरर बन सकता है। कॉलेज लेक्चरर बनने की पूरी प्रक्रिया हम आपको नीचे प्रदान करवा रहे हैं।

अपने भविष्य के हिसाब से 11वीं कक्षा में विशेष वर्ग का चयन करें

जब भी कोई विद्यार्थी दसवीं कक्षा उत्तीर्ण कर लेता है, तो उसके पश्चात विद्यार्थी कोई 11वीं और 12वीं कक्षा के लिए एक निश्चित विषय वर्ग का चयन करना होगा। विद्यार्थी जिस सब्जेक्ट में अधिक रुचि रखता है। उस सब्जेक्ट के अनुसार और अपने करियर के अनुसार यानी कि भविष्य में उसे क्या बनना है।

उसके आधार पर 11वीं कक्षा में विषय वर्ग का चयन कर ले उचित विषय वर्ग का चयन करने पर आपको भविष्य में किसी भी प्रकार की समस्या का सामना नहीं करना पड़ेगा। विषय वर्ग के आधार पर ही आप अपनी इच्छा अनुसार विषय में कॉलेज लेक्चरर की डिग्री और कॉलेज लेक्चरर बनने तक का सपना पूरा कर पाएंगे।

12वीं कक्षा पास करें

दसवीं कक्षा के बाद जो विद्यार्थी विशेष वर्ग का चयन कर लेता है। उस विद्यार्थी को अपने विशेष वर्ग के अनुसार 11वीं और 12वीं कक्षा को अच्छे नंबर के साथ पास करना होगा। 11वीं और 12वीं कक्षा में रेगुलर पढ़ाई करते हुए आप 12वीं कक्षा का रिजल्ट अच्छा हासिल करें। अच्छा रिजल्ट होगा तो आपको आगे कॉलेज आसानी से मिलेगी और सरकारी कॉलेज मिलने के भी चांस रहेंगे। ऐसे में आपको बाहरी कक्षा अच्छे नंबरों के साथ पास करनी है।

ग्रेजुएशन की डिग्री लें

जब विद्यार्थी 12वीं कक्षा पास कर लेता है, तो उसके बाद विद्यार्थी को अपने विषय वर्ग के आधार पर ग्रेजुएशन की डिग्री लेनी होगी। यदि विद्यार्थी विज्ञान वर्ग का स्टूडेंट रहा है। तो ऐसे में विद्यार्थी बीएससी की डिग्री हासिल कर सकता है और आगे जाकर कॉलेज लेक्चरर बनने के सपने को पूरा कर सकता है।

हालांकि विज्ञान वर्ग ले चुका विद्यार्थी बीए की डिग्री भी ले सकता है और बीकॉम की डिग्री भी ले सकता है। आप अपनी इच्छा अनुसार किसी भी 1 डिग्री कोर्स को पूरा करें अच्छे अंकों के साथ डिग्री कोर्स को पूरा करने के बाद आपको मास्टर डिग्री लेनी होगी।

अंडर ग्रेजुएशन की डिग्री हासिल करने के लिए आपके 12वीं कक्षा में 55% से अधिक अंक होने चाहिए। ताकि आपको सरकारी कॉलेज आसानी से मिल सके। हालांकि वर्तमान समय में सरकारी कॉलेज का कॉन्पिटिशन काफी अधिक है। इसकी वजह से कभी कभी तो 70% नंबर वाले विद्यार्थी को भी सरकारी कॉलेज नहीं मिल पाता है।

वह परिस्थिति हर बार अलग-अलग रहती है। लेकिन 55% से ऊपर अंक होना काफी जरूरी है। अंडर ग्रेजुएशन की डिग्री हासिल करने के लिए विद्यार्थी को 3 साल का समय देना होगा। यह 3 वर्षीय कोर्स करने के बाद आप मास्टर डिग्री कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें:- Graduation के बाद 1 year diploma Courses की पूरी जानकारी।

मास्टर डिग्री प्राप्त करें यानी की पोस्ट ग्रेजुएशन डिग्री हासिल करें

जब विद्यार्थी ग्रेजुएशन की डिग्री पूरी कर लेता है, तो उसके पश्चात विद्यार्थी को आगे की पढ़ाई के तौर पर मास्टर डिग्री यानी कि PG जिसे पोस्ट ग्रेजुएशन कहते हैं। इसे हासिल करना होगा मास्टर डिग्री हासिल करने के लिए आपने जिस विषय में अंडर ग्रेजुएशन की डिग्री हासिल की है।

उसी विषय में आपको मास्टर डिग्री लेनी होती है। मास्टर डिग्री लेने के लिए आपको किसी भी एक सब्जेक्ट का चयन करना होगा। विषय वर्ग के आधार पर आप जब ग्रेजुएशन की डिग्री करते हैं, तो आपके ग्रेजुएशन की डिग्री में तीन सब्जेक्ट होते है।

उनमें से किसी भी एक सब्जेक्ट के साथ आपको मास्टर डिग्री हासिल करनी होगी। मास्टर डिग्री हासिल करने के लिए आपके ग्रेजुएशन की डिग्री में न्यूनतम 55% अंक होने अनिवार्य है। 55% अंक से कम होने पर आपको सरकारी कॉलेज में मास्टर डिग्री लेने का मौका नहीं मिलेगा। इसके अलावा प्राइवेट कॉलेज में तो मास्टर डिग्री ले सकते हैं। मास्टर डिग्री का कोर्स जो 2 साल का होता है।

यह भी देखें:- Post Graduation के बाद कौनसे करियर option होते हैं?

यूजीसी नेट टेस्ट क्लियर करें?

जब विद्यार्थी पोस्ट ग्रेजुएशन की डिग्री यानी कि मास्टर डिग्री प्राप्त कर लेता है, तो उसके पश्चात विद्यार्थी को कॉलेज लेक्चरर बनने के लिए तैयार हो जाना है। विद्यार्थी को अब मास्टर डिग्री पूरी करने के बाद नेट एग्जाम को क्लियर करना होगा। नेट एग्जाम जो विद्यार्थी को कॉलेज लेक्चरर बनने की अनुमति देता है।

यदि उम्मीदवार मास्टर डिग्री लेने के बाद नेट का एग्जाम क्लियर करता है, तो उस एग्जाम को क्लियर करने के बाद आपको कॉलेज लेक्चरर बनने की अनुमति दी जाती है। आप उसके बाद सरकार के द्वारा निकाली गई लेक्चरर भर्ती में आवेदन कर सकते हैं और कॉलेज लेक्चरर बन सकते हैं।

इसके अलावा प्राइवेट कॉलेज में भी नेट एग्जाम को क्लियर करके पढ़ा सकते हैं। नेट एग्जाम क्लियर करने के बाद आपको कॉलेज में लेक्चरर पद पर पढ़ाने का परमिशन मिल जाता है।

M.phil और P.Hd की डिग्री हासिल करें

कॉलेज लेक्चरर बनने के लिए यदि आप नेट का एग्जाम क्लियर नहीं कर पाते हैं। तो ऐसे में आपको एक पीएचडी यह M Phil की डिग्री लेने का मौका दिया जाता है। इस डिग्री को लेकर आप किसी भी सब्जेक्ट में प्रोफेसर व रिसर्चर बन सकते हैं।

पीएचडी की डिग्री लेने के बाद आपके नाम के आगे डॉक्टर की उपाधि लग जाती है। उदाहरण के तौर पर यदि आपका नाम रवि है, तो पीएचडी की डिग्री लेने के बाद सभी आपको डॉक्टर रवि के नाम से पुकारते है।

यह पीएचडी की डिग्री शिक्षा के क्षेत्र की सबसे ऊंची डिग्री है। इस डिग्री को लेते समय आपको 2 साल की अवधि तक पढ़ाई करनी होगी। साथ ही साथ 2 साल की अवधि के दौरान किसी न किसी स्पेशल जीव या पेड़ पौधों की प्रजाति या किसी बीमारी के बारे में रिसर्च करना होगा और उसकी खोज करनी होगी।

कॉलेज लेक्चरर बनने के लिए जरूरी क्वालिफिकेशन

जैसा कि हमने आपको ऊपर बताया है, कि कॉलेज लेक्चरर बनने के लिए आपको अंडर ग्रेजुएशन की डिग्री हासिल करनी होगी। उसके साथ ही साथ मास्टर डिग्री और उसके बाद में यूजीसी नेट का एग्जाम क्लियर करना होगा या फिर पीएचडी की डिग्री लेकर College Professor पद को हासिल कर सकते हैं

कॉलेज लेक्चरर बनने के लिए प्रतियोगी परीक्षाएं

जब आप कॉलेज लेक्चरर बनने के बारे में सोचते हैं, तो आपको सबसे पहले कॉलेज लेक्चरर के लिए होने वाली प्रतियोगी परीक्षाओं में भाग लेना होगा कॉलेज लेक्चरर बनने के लिए आप नीचे दी गई निम्नलिखित परीक्षा में भाग लेकर लेक्चरर का पद हासिल कर सकते हैं।

कॉलेज लेक्चरर बनने के लिए आयु वर्ग

कॉलेज लेक्चरर बनने की चाहत यदि आपके मन में भी है, तो आपको आयु वर्ग का भी असर ध्यान रखना होगा। यदि आप आयु वर्ग का ध्यान नहीं रखते हैं और फिर तैयारी कर रहे हैं। तो कहीं ऐसा भी हो सकता है, कि कई बार आप आयु वर्ग की वजह से कॉलेज लेक्चरर के लिए आपको अनुमति नहीं दी जाए।

ऐसे में आपको क्वालिफिकेशन के साथ-साथ आयु वर्ग का भी ध्यान रखना होगा। आयु वर्ग कॉलेज लेक्चरर बनने के लिए कितनी जरूरी है। उसकी जानकारी नीचे दी गई हैः

  • न्यूनतम उम्र (Minimum) 21 वर्ष
  • अधिकतम उम्र (Maximum) 35 वर्ष

सरकार के द्वारा ग्रामीण इलाकों से संबंध रखने वाले विद्यार्थियों को 3 साल की सामान्य छूट प्रदान करवाई गई है।

जो विद्यार्थी अन्य पिछड़ा वर्ग से संबंध रखते हैं उन विद्यार्थी को 5 साल की उम्र में छूट दी जा रही है।

अनुसूचित जाति व अनुसूचित जनजाति के विद्यार्थियों को 15 साल की सामान्य आयु सीमा में छूट प्रदान कराई जा रही है।

कॉलेज लेक्चरर बनने के लिए जरूरी योग्यता एवं स्किल

यदि आप अपने अपने भविष्य में कॉलेज लेक्चरर बनने की इच्छा रखते हैं, तो आपको कहीं न कहीं अपनी खुद की स्किल को सुधारना होगा। कॉलेज लेक्चरर बनने के लिए आपके पास कई तरह से सामान्य नॉलेज होना अनिवार्य है जो कुछ इस प्रकार से हैः

  1. यदि आप कॉलेज लेक्चरर बनना चाहते हैं, तो आपके मन में हमेशा विद्यार्थी या किसी अन्य की भावना को समझने की इच्छा होनी चाहिए। यदि आप विद्यार्थी के साथ सही बर्ताव नहीं कर रहे हैं, तो आप अच्छे कॉलेज लेक्चरर नहीं बन सकते हैं।
  2. हमेशा लेक्चर देते समय विद्यार्थी को नई-नई चीजें दिखाने का जुनून आपके अंदर होना चाहिए। आपको हमेशा एक बात ध्यान रखकर कॉलेज में लेक्चर देने हैं, कि मेरे इस लेक्चर से विद्यार्थियों को ज्यादा से ज्यादा फायदा हो।
  3. हमेशा अपने काम में सदैव रुचि रखें और हमेशा विद्यार्थी को कुछ न कुछ नया सिखाने की कोशिश करें। विद्यार्थियों की हर समस्या का समाधान करें और विद्यार्थी के साथ एक अच्छा संबंध भी बनाए।
  4. एक अच्छा कॉलेज लेक्चरर बनने के लिए आपके पास लिखने की एक अच्छी कला होनी चाहिए। यदि आप अच्छी राइटिंग के साथ लिखते हैं और अच्छा लिखते हैं। अच्छा का मतलब यहां पर इनफॉर्मेटिव शब्द लिखते हैं, तो आप एक अच्छे कॉलेज लेक्चरर हैं।
  5. कॉलेज लेक्चरर बनने के लिए आपका स्वभाव हमेशा शांत होना चाहिए और हर दूसरे व्यक्ति के साथ आप मित्रता के साथ पेश आएं। ताकि किसी भी व्यक्ति या किसी विद्यार्थी को ऐसा न लगे कि आप नौकरी हासिल करने के बाद घमंडी बन गए हैं।
  6. आपको अपने विषय से संबंधित अच्छी पकड़ होनी चाहिए आप हर सवाल का जवाब भेजिए को कर दें और विद्यार्थी के द्वारा पूछे गए हर सवाल को अच्छे से समझा और विद्यार्थी को उसका उत्तर अच्छे से समझाएं।
  7. यदि आप बेहतरीन कॉलेज लेक्चरर बनना चाहते हैं, तो आपके पास एक पब्लिक स्पीकर जाने की हमेशा ऑडियंस के सामने अच्छा स्पीच देने की कला होनी चाहिए।
  8. दूसरों के सामने बोलने से कभी ना घबराए कॉलेज लेक्चरर बनने के लिए इन सभी बातों को आप को अवश्य ध्यान रखना चाहिए।

अवश्य पढ़ें:- B.A के बाद महिलाओं के लिए सरकारी नौकरी की पूरी जानकारी।  

कॉलेज लेक्चरर की पढ़ाई करने के बाद भविष्य के लिए जॉब की संभावनाएं

जब आप मास्टर डिग्री हासिल कर लेते हैं और उसके बाद पीएचडी की डिग्री ले लेते हैं, तो ऐसे में आप कई तरह से जॉब पाने के लायक बन जाते हैं, जो कुछ इस प्रकार से हैः

  • कॉलेज लेक्चरर
  • रीडर
  • असिस्टेंट प्रोफेसर
  • प्रोफेसर
  • विभागाध्यक्ष

कॉलेज लेक्चरर की सैलरी कितनी होती है?

जब भी उम्मीदवार दसवीं कक्षा में बैठे-बैठे कॉलेज लेक्चरर बनने का सपना देखता है तो विद्यार्थी के मन में सैलरी को लेकर ख्याल से पैदा होते हैं। विद्यार्थी चाहे किसी भी स्थिति में बैठकर ऊंचे पद पर नौकरी हासिल करने का सपना देख रहा है। उस समय विद्यार्थी को सबसे पहले यही ध्यान में आता है कि इस पद को हासिल करने के बाद मुझे सैलरी कितनी मिलेगी।

वर्तमान समय में सरकारी कॉलेज में लेक्चरर पद पर काम करने वाले उम्मीदवार या फिर कॉलेज लेक्चरर को बेसिक सैलरी 40000 – 87000 प्रति महीना प्रदान करवाई जा रही है। सरकार के द्वारा 40000 – 87000 बेसिक सैलरी के साथ-साथ कई प्रकार के सरकारी भत्ते प्रदान करने जा रहे हैं। सरकार के द्वारा प्रदान करवाई जाने वाली बेसिक सैलरी इसके साथ ही साथ आपको ग्रेड पे भी दिया जा रहा है।

निष्कर्ष

कॉलेज लेक्चरर बनने के लिए आपको अपने पढ़ाई के क्षेत्र में मुख्य रुप से ध्यान देते हुए पढ़ाई करनी होगी। यहां पर कॉलेज लेक्चरर के लिए जरूरी पढ़ाई में आपका काफी ज्यादा मेहनत लगाना जरूरी होता है। कॉलेज लेक्चरर बनने के लिए आप हमारे इस आर्टिकल को पढ़ सकते हैं। हमने आज के इस आर्टिकल में कॉलेज लेक्चरर कैसे बने? इसके बारे में संपूर्ण जानकारी दी है। हमें उम्मीद है, कि हमारे द्वारा दी गई जानकारी आपको पसंद आई होगी। यदि आपको हमारे इस आर्टिकल से जुड़ा हुआ कोई भी सवाल है, तो हमें कमेंट के माध्यम से बता सकते हैं।

Leave a Comment