WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

DAMS कोर्स क्या है? | Dams Course Details In Hindi 2024

मेडिकल के क्षेत्र में वर्तमान समय में अनेक सारे नए-नए आविष्कार हो रहे हैं। अनेक सारे नए नए प्रयोग हो रहे हैं एवं नई नई तकनीकी के साथ नई चिकित्सा पद्धति को भी स्वीकार किया जा रहा है। वर्तमान समय में दुनिया भर में विशेष रूप से मेडिकल क्षेत्र में एक तरह की ही चिकित्सा पद्धति चलती है। लेकिन अब भारत में मेडिकल क्षेत्र में सदियों पुरानी भारतीय चिकित्सा पद्धति जिसे हम आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति से जानते हैं को भी शामिल किया गया है। बता देते हैं की आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति काफी कारगर साबित हो रही है, जिसकी वजह से इसे शामिल किया गया है। ऐसा करने से हमारी भारतीय चिकित्सा पद्धति को सम्मान देने जैसा भी महसूस होता है।

वर्तमान समय में अगर आप मेडिकल क्षेत्र में अपना करियर बनाना चाहते हैं। तो आयुर्वेदिक मेडिकल कोर्स का चयन करके आप आगे बढ़ सकते हैं। इस कोर्स को करने के बाद आपके सामने अनेक प्रकार के कैरियर विकल्प देखने को मिल जाते हैं तथा अच्छे पदों पर अच्छा वेतन दिया जाता है और एक सम्मानजनक जीवन मिलता है जिसकी कल्पना हर एक व्यक्ति करता है, तो मेडिकल सेंटर में वर्तमान समय के कंपटीशन को पीछे छोड़ते हुए आप इस कोर्स के साथ आगे बढ़ सकते हैं और चिकित्सा क्षेत्र में भारत में आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति के साथ एक बेहतरीन करियर की कल्पना कर सकते हैं। यह कोर्स काफी कारगर साबित हो रहा है और आने वाले समय में इसकी काफी डिमांड भी देखने को मिल सकती है।

Dams Doctor Course क्या है —

Dams full form in medical (Diploma of Ayurvedic Medical Science) डिप्लोमा ऑफ आयुर्वेदिक मेडिकल साइंस होता है, जिसे हिंदी में आयुर्वेदिक चिकित्सा पाठ्यक्रम कहते हैं। वर्तमान समय में चिकित्सा क्षेत्र में भारतीय सदियों पुरानी परंपरागत चिकित्सा पद्धति को शामिल किया जा रहा है जिसे इतिहास में आयुर्वेदिक नाम से जाना जाता है। बता देते हैं की आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति के अंतर्गत विभिन्न प्रकार के तरीकों से आसानी से इलाज किया जाता है जो शरीर के लिए भी काफी लाभदायक होता है और दूसरे चिकित्सा प्रणाली के मुकाबले यह काफी सरल भी है। इसीलिए वर्तमान समय में भारतीय मेडिकल छात्र में आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति का विस्तार हो रहा है।

Dams Course Details in Hindi 2024 –

Dams एक मेडिकल छात्र का महत्वपूर्ण कोर्स है, इसे कोई भी मेडिकल क्षेत्र से संबंध रखने वाला विद्यार्थी कर सकता है। अगर आप भी मेडिकल के क्षेत्र में आगे बढ़ना चाहते हैं, तो यह कोर्स खास आपके लिए ही है। बता देते हैं कि इस कोर्स के लिए 2 वर्ष की समय अवधि निर्धारित की गई है। आप भारत के किसी कॉलेज से इस कोर्स को कर सकते हैं। इस कोर्स के लिए अलग-अलग कॉलेज द्वारा अलग-अलग आवेदन प्रक्रिया निर्धारित की गई है और अलग-अलग योग्यता भी निर्धारित की गई है, तो आप अपने अनुसार एक कॉलेज का चयन करके आवेदन करके इस कोर्स को कर सकते हैं। यह कोर्स आपको बेहतर भविष्य की और निकल जाएगा।

Dams के लिए Qualification —

वर्तमान समय में भारत वर्ष के लिए क्वालिफिकेशन निर्धारित की गई है जिसके आधार पर यह तय होता है कि इस कोर्स को करने वाला आवेदक योग्य है या नहीं। तो इस कोर्स के लिए निर्धारित की गई योग्यता इस प्रकार है —

  • Dams कोर्स को कोई भी भारतीय विद्यार्थी कर सकता है।
  • इस कोर्स को करने के लिए न्यूनतम 12वीं कक्षा पास की शैक्षणिक योग्यता निर्धारित की गई है।
  • बता देते हैं कि इस कोर्स के लिए विद्यार्थी का साइंस स्ट्रीम से 12वीं कक्षा पास करना अनिवार्य नहीं है।
  • विद्यार्थी साइंस अथवा आर्ट्स या कॉमर्स सब्जेक्ट के साथ भी इस कोर्स को चयन कर सकते हैं।
  • इस कोर्स को पूर्ण करने में आपको 2 साल का समय देना होगा।
  • इस कोर्स को करने के लिए मेडिकल अथवा चिकित्सा क्षेत्र में विद्यार्थी की रूचि होना आवश्यक है।
  • इस कोर्स को करने के लिए आवेदक की न्यूनतम आयु सीमा 18 वर्ष निर्धारित की गई है।

Dams के लिए Syllabus in Hindi 2024-

किसी भी कोर्स के लिए एक महत्वपूर्ण विषय होता है। आयुर्वेदा हमारे भारतीय संस्कृति के साथ प्राचीनतम चिकित्सा पद्धति का विशेष स्वरुप है। इसीलिए इसे संस्कृति के तौर पर जारी रखना और बेहतर चिकित्सा के लिए तेजी से फैलाना जरूरी है। इस कोर्स के अंतर्गत विभिन्न प्रकार के विषय को शामिल किए गए हैं जो मेडिकल क्षेत्र में काफी कारगर साबित हो रहे हैं —

Dams First Year syllabus —

  • Ayurvedic History
  • Communicative English and Computer Fundamentals
  • Anatomy and physiology.
  • Dravya guna and Rasa shastram.
  • Basic of Ayurveda

Dams second year syllabus —

  • Ayurvedic Medical Theory.
  • Ayurvedic Drugs
  • Diabetes care in Ayurvedic
  • Practical – VI
  • Practical – VI
  • Practical – VIII

Dams के लिए आवेदन कैसे करें —

Dams कोर्स के लिए आवेदन की प्रक्रिया काफी आसान है क्योंकि आप घर बैठे ही ऑनलाइन माध्यम से भी इस कोर्स के लिए आवेदन कर सकते हैं। जबकि Offline तरीके से भी कोर्स के लिए आवेदन किया जा रहा है। तो इस कोर्स की आवेदन प्रक्रिया Online माध्यम से इस प्रकार है —

  • सबसे पहले एक कॉलेज का चयन करें, जिस कॉलेज के अंतर्गत आप इस कोर्स को करना चाहते हैं।
  • अब उस कॉलेज की Official Website पर पहुंचे।
  • Official Website पर Registration करके अपना Account बनाएं।
  • ऑफिशियल वेबसाइट पर रजिस्ट्रेशन करने के बाद User Name और Password से Login करें।
  • अब आपको ऑफिशल वेबसाइट पर Dams Course का चयन करके आगे बढ़ना है।
  • अब आपके सामने एक आवेदन फार्म ओपन हो जाएगा, इसे सही ढंग से भरना है।
  • आवेदन फ़ार्म में नाम पता शैक्षणिक योग्यता इत्यादि कुछ सामान्य जानकारी पूछी जाती है जिसे भर दे।
  • अब आवेदन फार्म के साथ में संबंधित और जरूरी दस्तावेजों को भी Upload करें।
  • अब आवेदन फार्म को सबमिट कर दें।
  • अगर किसी कॉलेज द्वारा प्रवेश परीक्षा आयोजित करवाई जाती है तो प्रवेश परीक्षा के लिए भी आवेदन करें।
  • प्रवेश परीक्षा में आने वाले अंकों के आधार पर चयन किया जाएगा।

Dams Course की कितनी फीस है? —

Dams कोर्स की फीस कॉलेज पर निर्भर करती है क्योंकि भारत में विभिन्न प्रकार के कॉलेज हैं, जो अपनी योग्यता के आधार पर फीस लेते हैं। कुछ कॉलेज अपनी लोकप्रियता के आधार पर फीस लेते हैं जबकि महत्वपूर्ण और प्रतिष्ठित कॉलेजों की फीस अलग होती है। बात करें सरकारी और प्राइवेट कॉलेज की फीस की तो इसमें बहुत बड़ा फर्क होता है। जहां Private College में Fees ₹7,00,000 तक भी हो सकती है, वहीं पर सरकारी कॉलेजों में फीस के रूप में अधिकतम ₹35,000 तक ही लिए जाते हैं। इसके अलावा समय के अनुसार फीस में बदलाव होते रहते हैं तथा कॉलेज प्रशासन भी इसमें अपनी इच्छा अनुसार बदलाव कर सकती है।

People Also Read:-

BUMS Course क्या है क्या करें?

BSMS Course क्या होता है पूरी जानकारी?

12th Science के बाद क्या करें?

नीट परीक्षा के बिना कौन से मेडिकल कोर्स कर सकते हैं?

Student पैसे कैसे कमाए? Top 10 Earning Apps की जानकारी.

Conclusion

Dams Course वर्तमान समय में भारतीय चिकित्सा पद्धति में काफी महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है क्योंकि इस कोर्स को करने के बाद आयुर्वेद से संबंधित चिकित्सक बनते हैं। आयुर्वेद हमारे भारत की सदियों पुरानी चिकित्सा पद्धति और प्रणाली है जिसके तहत विभिन्न प्रकार से मनुष्यों का इलाज किया जाता है। यह चिकित्सा पद्धति काफी हद तक अंग्रेजी चिकित्सा पद्धति से अलग है। इसीलिए इसे भी शामिल किया गया है और इसे आगे बढ़ाने के लिए आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति से संबंधित कोर्स निर्धारित किए गए हैं, जिसमें से एक कोर्स Dams है परंतु अधिकांश विद्यार्थी कौन से कोर्स के बारे में जानकारी ही नहीं है। तो वह इस आर्टिकल में हम आपको पूरी जानकारी के साथ विस्तार पूर्वक Dams कोर्स के बारे में बता चुके हैं। हमें उम्मीद है कि यह जानकारी आपको अवश्य ही पसंद आई होगी।