Doctor कैसे बने? 2022 में तैयारी से लेकर सैलरी तक पूरी जानकारी

देश में डॉक्टर का पद एक सम्मानजनक पद माना जाता है। और डॉक्टर को भगवान भी कहा जाता है। डॉक्टर बनने का सपना हर व्यक्ति का होता है। हर व्यक्ति अपने जीवन में डॉक्टर बनने की इच्छा रखता है। जब विद्यार्थी छोटी कक्षा में होता है। तब व्यक्ति को या तो इंजीनियर बनने का सपना आता है या फिर डॉक्टर बनने का इंजीनियर और डॉक्टर दो ऐसे ख्वाब है। जो हर व्यक्ति अपने जीवन में देखता है।

डॉक्टर बनने के लिए बहुत मेहनत करनी पड़ती है और डॉक्टर बनने के बाद कमाई और इज्जत दोनों बहुत ज्यादा मिलती है। डॉक्टर बनना आज के समय के लिए बहुत ज्यादा प्रतिस्पर्धा जनक हो गया है। आज के आर्टिकल में हम आपको डॉक्टर कैसे बने? इसके बारे में पूरी जानकारी देने का प्रयास करेंगे।

Table of Contents

डॉक्टर कैसे बने और डॉक्टर बनने के लिए क्या जरूरी है?

डॉक्टर बनने का सपना देखने वाले लोगों के लिए यह आर्टिकल काफी ज्यादा उपयोगी होने वाला है। डॉक्टर कैसे बने इसके बारे में यदि हम बात करें तो डॉक्टर एक सम्मानजनक पद है। जिसे हासिल करने के लिए आपको भरपूर पढ़ाई करनी होती है। लंबे समय तक पढ़ाई और कड़ी मेहनत आपके डॉक्टर बनने के सपने को पूरा करने में मदद करती है। डॉक्टर बनने के लिए आपको कौन कौन से चरण फॉलो करने होंगे। जिसकी जानकारी हम आपको नीचे प्रदान करवाएंगे।

डॉक्टर बनने के लिए क्या करना होगा?

यदि आप भी अपने जीवन में डॉक्टर बनने का सपना देख रहे हैं। तो आपको कई प्रकार की गतिविधियों को अपने जीवन में लाना होगा और उनकी गतिविधियों के आधार पर डॉक्टर बनने का सपना पूरा करना होगा। डॉक्टर बनने से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण तथ्य नीचे दिए गए हैं।

  • डॉक्टर बनने के लिए आपको सबसे पहले दसवीं कक्षा उत्तीर्ण करने के पश्चात 11वीं कक्षा में विज्ञान वर्ग सब्जेक्ट का चयन करना होगा।
  • 11वीं कक्षा में विज्ञान वर्ग का चयन करने के पश्चात आपको 11वीं और 12वीं कक्षा के साथ-साथ प्री मेडिकल टेस्ट के लिए तैयारी करनी होगी।
  • बारहवीं कक्षा उत्तीर्ण करते ही प्री मेडिकल टेस्ट में अपना आवेदन करना होगा और प्री मेडिकल टेस्ट का एग्जाम देना होगा।
  • यदि आपका प्री मेडिकल टेस्ट में चयन हो जाता है तो आपको आगे कॉलेज मिल जाएगा। उस कॉलेज के जरिए आप डॉक्टर की डिग्री हासिल कर सकते हैं।
  • डॉक्टर बनने के लिए आपकी मानसिक स्थिति सही होना अनिवार्य है।
  • डॉक्टर बनने के लिए आपको कड़ी मेहनत करनी पड़ती है पढ़ाई में कोई भी कसर नहीं छोड़ दी है।
  • डॉक्टर बनने का सपना पूरा करने के लिए आपके काफी पैसे भी खर्च होते हैं जिसकी जानकारी भी हम आपको आर्टिकल में बताएंगे।

डॉक्टर कैसे बने?

doctor kaise bane

जो विद्यार्थी डॉक्टर बनना चाहता है या मन में डॉक्टर बनने का एक सपना लेकर पढ़ाई कर रहा है। तो उस विद्यार्थी को नीचे दिए गए निम्नलिखित चरणों को फॉलो करना होगाः

अवश्य देखें:- NEET परीक्षा क्या है और तैयारी कैसे करे? पूरी जानकारी।

1. दसवीं के बाद विज्ञान वर्ग का चयन करें?

डॉक्टर बनना चाहते है, तो ऐसे में आपको विज्ञान वर्ग में रुचि होना जरूरी है। यदि आप विज्ञान में रुचि नहीं रखते हैं तो अपने मन के बगैर आप डॉक्टर नहीं बन पाएंगे। दसवीं कक्षा तक यदि आपको विज्ञान वर्ग में रुचि रहती हैं और हकीकत में ही आप विज्ञान की पढ़ाई को आगे कंटिन्यू कर सकते हैं। तो उसके पश्चात आपको 11वीं कक्षा में विज्ञान वर्ग का चयन करना होगा। विज्ञान वर्ग का चयन करने के बाद साइंस बायोलॉजी यानी कि जीव विज्ञान के साथ 11वीं कक्षा और बारहवीं कक्षा में बेहतरीन तरीके से पढ़ाई करते हुए पास करनी है।

2. 11वीं और 12वीं कक्षा की पढ़ाई अच्छे से करें?

डॉक्टर बनने के लिए जो प्री मेडिकल टेस्ट होता है उस टेस्ट का संपूर्ण को 11वीं कक्षा और बारहवीं कक्षा के सब्जेक्ट पर ही आधारित होता है। प्री मेडिकल टेस्ट की तैयारी करवाने वाले सभी कोचिंग सेंटर आपके 11वीं और 12वीं के कोर्स को ही डिटेल में पढ़ाते हैं। इसीलिए आप विज्ञान वर्ग में जीव विज्ञान के साथ 11वीं कक्षा और बारहवीं कक्षा की बेहतरीन तरीके से पढ़ाई करें और साथ साथ में प्री मेडिकल टेस्ट की जानकारी भी अवश्य रखें ताकि आपको बाद में प्री मेडिकल टेस्ट की तैयारी करते समय ज्यादा दिक्कत का सामना ना करना पड़े।

3. 11वीं और 12वीं के साथ ही प्री मेडिकल टेस्ट की तैयारी शुरू करें?

जब आप 11वीं कक्षा और बारहवीं कक्षा की पढ़ाई कर रहे होते हैं तो ऐसे में आपको 11वीं और 12वीं कक्षा के साथ-साथ प्री मेडिकल टेस्ट के लिए भी तैयारी करनी चाहिए प्री मेडिकल टेस्ट का सिलेबस समान ही है। लेकिन प्री मेडिकल टेस्ट में प्रश्न पूछने का तरीका काफी हद तक अलग है। इसलिए आपको ही 11वीं और 12वीं की पढ़ाई करते समय साथ साथ में प्री मेडिकल टेस्ट में किस प्रकार से सवालों को पूछा जाता है और किस प्रकार से घुमा फिरा कर ऑब्जेक्टिव के ऑप्शन आपके सामने उपलब्ध करवाए जाते हैं। इसकी तैयारी करनी है और लगातार इन दोनों कक्षाओं के साथ साथ जबरदस्त प्रैक्टिस भी करनी है।

4. प्री मेडिकल टेस्ट और डॉक्टर के लिए एंट्रेंस एग्जाम की तैयारी करें

11वीं और 12वीं कक्षा की पढ़ाई प्री मेडिकल टेस्ट के लिए काफी नहीं होती हैं हालांकि कई लोग यारी और बारहवीं कक्षा उत्तीर्ण करते ही प्री मेडिकल टेस्ट में आवेदन लगा लेते हैं। लेकिन बहुत कम लोगों का इस परिस्थिति में सिलेक्शन होता है। क्योंकि 11वीं और 12वीं कक्षा का सिलेबस होने के बावजूद भी प्री मेडिकल टेस्ट का एग्जाम प्रश्न पत्र हाई लेवल का होता है। जो हर व्यक्ति के लिए थोड़ा मुश्किल हो जाता है।

अतः ऐसे में आपको 11वीं और 12वीं कक्षा उत्तीर्ण करने के पश्चात प्री मेडिकल टेस्ट के लिए 1 साल तक निश्चित रूप से तैयारी करनी चाहिए। जिसमें आप आराम से डिटेल में इस प्रश्न पत्र और सिलेबस की जानकारी हासिल कर सकें। यदि आप चाहें तो मेडिकल कोचिंग क्लास भी ज्वाइन कर सकते हैं।

5. एंट्रेंस एग्जाम फॉर्म भरे और परीक्षा दे

12वीं कक्षा उत्तीर्ण करने के पश्चात आप एंट्रेंस एग्जाम में आवेदन लगा सकते हैं। लेकिन मेरा मानना यह है, कि यदि आप इस परीक्षा के लिए कंफर्टेबल नहीं है। तो ऐसे में 1 साल तैयारी करके उसके बाद एंट्रेंस परीक्षा के लिए आवेदन करें। एंट्रेंस एग्जाम का फॉर्म भरने के पश्चात आपको किसी भी प्रकार का मानसिक दबाव ना रख कर इस परीक्षा में भाग लेना है और अच्छे से इस परीक्षा के प्रश्न पत्र को हल करके अपनी परीक्षा को सफल बनाना है। परीक्षा का रिजल्ट आने के पश्चात आपको अगले चरण के रूप में कॉलेज मिलता है।

6. कॉलेज मिलने के बाद MBBS की डिग्री करें

जब आप इंट्रेंस एग्जाम यानी कि प्री मेडिकल टेस्ट में पास हो जाते हैं तो उसके पश्चात आपको एमबीबीएस की डिग्री लेने के लिए कॉलेज मिल जाता है। कॉलेज मिलने के बाद आप 5.5 Year एमबीबीएस की डिग्री को पूरा करना होगा एमबीबीएस की डिग्री हासिल करते समय आपको बेहतर तरीके से तैयारी करनी है और अच्छे से पढ़ाई करते हुए इस डिग्री को हासिल करना है।

जब आप यह डिग्री कंप्लीट करके मार्कशीट हासिल कर लेते हैं। तो उसके पश्चात आपको मास्टर ग्रेजुएशन के तौर पर अलग अलग डिपार्टमेंट जिसमें आप अपने अनुसार किसी भी क्षेत्र का चयन करते हुए मास्टर डिग्री ले सकते हैं। यानी कि आप फिजीशियन बनना चाहते हैं, तो आपको एमडी की डिग्री लेनी होगी उसी प्रकार से हड्डियों के डॉक्टर के लिए अलग मास्टर डिग्री होती है। स्त्री रोग विशेषज्ञों के लिए अलग मास्टर डिग्री होती है। मास्टर डिग्री में भी आपकी एमबीबीएस डिग्री के अनुसार मेरिट लिस्ट निकलती है और उसी के अनुसार आपको एडमिशन मिलता है। मास्टर डिग्री 2 साल की होती है। मास्टर डिग्री के बाद आपको इंटरशिप के लिए भेजा जाता है।

7. Internship में भाग लें

डॉक्टर बनने के लिए जब आप एमबीबीएस की डिग्री हासिल कर लेते हैं, तो उसके पश्चात आपको इंटरशिप में भाग लेने का मौका दे दिया जाता है। हालांकि सरकार के निर्देशानुसार आपको मास्टर डिग्री लेने के बाद किसी हॉस्पिटल में इंटरशिप के तौर पर अपनी सेवा देनी होगी। इसके अलावा आपको मेडिकल कॉलेज में एमबीबीएस की डिग्री के साथ-साथ और मास्टर डिग्री के साथ-साथ कई प्रकार की चीजें प्रैक्टिकल के तौर पर भी सिखाई जाती है। जिसे सामान्य रूप से इंटरशिप कहते हैं। मास्टर डिग्री पूरी होने के पश्चात आप जब इंटरनेट में भाग लेते हैं। तो आपको आगे इंटरशिप का सर्टिफिकेट मिल जाता है। उसके पश्चात आप डॉक्टर बन जाते हैं।

8. डॉक्टर के लिए आने वाली भर्तियों में आवेदन करें

संपूर्ण डिग्री और इंटरशिप पूरी होने के पश्चात आप डॉक्टर बनने के लिए तैयार हो जाते हैं। ऐसे में यदि आप सरकारी डॉक्टर बनना चाहते हैं। तो ऐसे में सरकार के द्वारा निकाली गई डॉक्टर की भर्तियों में अपना आवेदन लगाना होगा और डॉक्टर बनने के लिए आवेदन फॉर्म भरकर एग्जाम को फाइट करते हुए मेरिट लिस्ट में अपना नाम अंकित करवाना होगा जब आप डॉक्टर की भर्तियों में पास हो जाते हैं। तो आपको सरकारी डॉक्टर के तौर पर सरकारी हॉस्पिटल में अनुमति दे दी जाएगी अन्यथा आप प्राइवेट डॉक्टर के तौर पर डिग्री लेने के पश्चात काम कर सकते हैं।

यह भी देखें:-

एंट्रेंस एग्जाम की तैयारी करते समय ध्यान रखने योग्य बातें

जब आप प्री मेडिकल टेस्ट यानी कि एंट्रेंस एग्जाम में भाग लेते हैं। तब आपको कई प्रकार की बातें मुख्य रुप से ध्यान रखनी होगी जो कुछ इस प्रकार से हैः

  1. एंट्रेंस एग्जाम की तैयारी करते समय आपको सबसे पहले अपने समय सारणी का निर्धारण करना होगा।
  2. समय सारणी के आधार पर नियमित रूप से रोजाना 9 से 10 घंटे तक पढ़ाई करनी होगी।
  3. जब आप समय सारणी का निर्माण करके पढ़ाई करते हैं तो आप की तैयारी प्रकट होती है और आपको यह परीक्षा पास करने में काफी मदद मिलती है।
  4. प्री मेडिकल टेस्ट की तैयारी करने के लिए आपको सबसे पहले 11वीं और 12वीं कक्षा के साथ साथ इस परीक्षा की तैयारी को शुरू करना होता है जो आपके लिए काफी ज्यादा उपयोगी है।
  5. प्री मेडिकल परीक्षा पास करने के आपके लिए आगे की पढ़ाई काफी आसान हो जाती है। 12वीं कक्षा उत्तीर्ण करने के पश्चात प्री मेडिकल टेस्ट एक पहाड़ के समान होता है जिसे पार करना हर विद्यार्थी के लिए काफी मुश्किल भरा होता है।

डॉक्टर बनने में कितना खर्चा आएगा

जो विद्यार्थी डॉक्टर बनने का सपना देख रहे हैं उन विद्यार्थियों के दिमाग में यह सवाल सबसे पहले पैदा होता है कि यदि हम डॉक्टर बनने के लिए पढ़ाई करें तो डॉक्टर बनने के लिए कितना खर्चा आता है। डॉक्टर बनने के लिए खर्चे की गति हम बात करें तो विदेशों में डॉक्टर बनने के लिए 30 से 40 लाख रुपए लिए जाते हैं। जो प्राइवेट मेडिकल कॉलेज के द्वारा आपको डॉक्टर बनने के लिए कॉलेज उपलब्ध करवाते हैं और आपको डॉक्टर बनने का सर्टिफिकेट भी उपलब्ध करवाते हैं।

लेकिन यदि आप प्री मेडिकल टेस्ट और एंट्रेंस एग्जाम पास कर के कॉलेज में एडमिशन लेते हैं। तो ऐसे में आप पांच लाख से ₹700000 में आराम से डॉक्टर बनने के सपने को पूरा कर सकते हैं या ऐसे कह सकते हैं, कि डॉक्टर बनने के लिए प्री मेडिकल टेस्ट पास करने के बाद करीब ₹700000 का खर्च आता है।

लेकिन यदि आप भारत में प्राइवेट कॉलेज में प्री मेडिकल टेस्ट पास किए बिना एमबीबीएस करने का सोचते हैं या डॉक्टर बनने का सोचते हैं तो ऐसे में करीब एक करोड रुपए का खर्चा आता है।

भारत में डॉक्टर बनने के लिए सबसे बेहतरीन कॉलेज कौन कौन सी है?

डॉक्टर बनने के लिए सभी विद्यार्थियों का सपना बेहतरीन कॉलेज में एडमिशन लेने का होता है लेकिन यह एडमिशन आपको प्री मेडिकल टेस्ट के अंदर आप की मेरिट कितनी रहती है। उसी आधार पर मिलता है। फ्री मेडिकल टेस्ट पास करने के बाद आपको कॉलेज मिलता है। नीचे हम भारत के कुछ बेहतरीन डॉक्टर बनने के लिए मेडिकल कॉलेज की सूची उपलब्ध करवा रहे हैं।

भारत में डॉक्टर बनने के लिए कौन-कौन से प्री मेडिकल टेस्ट और एंट्रेंस एग्जाम होते हैं?

भारत में डॉक्टर बनने के लिए एंट्रेंस एग्जाम और प्री मेडिकल टेस्ट के तौर पर एक परीक्षा का सामना करना पड़ता है। परंतु अलग अलग विभाग में अलग-अलग परीक्षा होती है। जिसे पास करके आप डॉक्टर बनने के सपने को पूरा कर सकते है। सभी परीक्षा को पास करने की जरूरत नहीं है, नीचे दी गई परीक्षा में से किसी भी एक परीक्षा को पास करके आप डॉक्टर बन सकते हैं।

डॉक्टर की सैलरी कितनी होती है?

जब कोई भी उम्मीदवार डॉक्टर बन जाता है। तो उसके मन में डॉक्टर बनने से पहले और डॉक्टर की पढ़ाई करते दौरान एक सवाल पैदा होता है कि आखिर डॉक्टर बनने के बाद मुझे कितना पैसा सैलरी के तौर पर मिल जाएगा। डॉक्टर की सैलरी किसकी होती है। इस सवाल का जवाब यह है कि यदि आप अपना खुद का हॉस्पिटल खोल लेते हैं तो करोड़ों रुपए सालाना कमा सकते हैं।

सरकारी डॉक्टर के तौर पर आपको डेढ़ लाख से ₹300000 तक की सैलरी प्रदान करवाई जाती है। प्राइवेट डॉक्टर के तौर पर आप एक हॉस्पिटल से 50000 से ₹100000 प्रति महीना ले सकते हैं। ऐसे ही दिन में तीन से चार हॉस्पिटल ज्वाइन करके ₹400000 तक आराम से प्रति महीना कमा सकते हैं।

इसके अलावा आप अपना खुद का क्लीनिक खोलकर अच्छा पैसा कमा सकते हैं। क्लीनिक खोलने के बाद आप 40 लाख से ₹5000000 आराम से कमा सकते हैं।

FAQ:-

Q. डॉक्टर बनने में कितना खर्चा आता है?

यदि आप भी डॉक्टर बनने का सपना देख रहे हैं तो डॉक्टर बनने का खर्चा भारत में प्राइवेट कॉलेज से करीब एक करोड़ आता है और विदेशों में प्राइवेट कॉलेज से ₹300000 तक आता है। लेकिन यदि आप प्री मेडिकल टेस्ट पास कर के डॉक्टर बनते हैं, तो ऐसे में तीन लाख से ₹700000 तक का खर्च आता है।

Q. डॉक्टर बनने में कितने साल लगते हैं?

डॉक्टर बनने की प्रक्रिया कि यदि हम बात करें तो करीब 7 से 8 साल की मेहनत के बाद आप डॉक्टर बन सकते हैं। 5.5 साल की एमबीबीएस की डिग्री उसके पश्चात 2 साल की मास्टर डिग्री और उसके बाद 6 महीने की इंटरशिप के बाद करीब 8 साल पूरे होने के बाद आप डॉक्टर बन जाएंगे।

Q. क्या डॉक्टर बनने के लिए प्री मेडिकल टेस्ट देना जरूरी है?

भारत में ऑल इंडिया प्री मेडिकल टेस्ट प्रतिवर्ष करवाया जाता है। यह Test भविष्य के डॉक्टर को डॉक्टर की पढ़ाई के लिए कॉलेज उपलब्ध करवाने के लिए करवाया जाता है। हालांकि इस परीक्षा को पास किए बिना भी आप प्राइवेट कॉलेज में एमबीबीएस की डिग्री हासिल करके डॉक्टर बन सकते हैं। लेकिन उस परिस्थिति में खर्चा बहुत अधिक आता है। इसलिए सभी लोग ऑल इंडिया प्री मेडिकल टेस्ट में भाग लेकर कम खर्चे में डॉक्टर बनने के बारे में सोचते हैं।

Q. डॉक्टर बनने के लिए 12वीं में कौन सा सब्जेक्ट होना जरूरी है?

यदि आप डॉक्टर बनना चाहते हैं, तो आपको 11वीं कक्षा में विज्ञान वर्ग का चयन करना होगा और विज्ञान वर्ग में आपको जीव विज्ञान का चयन करते हुए 11वीं और 12वीं कक्षा उत्तीर्ण करनी होगी।

निष्कर्ष

देशभर में डॉक्टर का पद एक सम्मानजनक पद माना जाता है। लाखों लोग डॉक्टर को भगवान मानते हैं। आज के जमाने के भगवान डॉक्टर ही कहलाते हैं क्योंकि डॉक्टर लाखों लोगों की जिंदगी बचाते है। आज के इस आर्टिकल में हमने डॉक्टर कैसे बने इसके बारे में डिटेल में जानकारी दी है। हमें उम्मीद है, कि हमारे द्वारा दी गई। जानकारी आपके लिए हेल्पफुल साबित हुई होगी यदि किसी व्यक्ति को इस आर्टिकल से संबंधित सवाल है, तो वह हमें कमेंट के माध्यम से बता सकता है।

Leave a Comment