WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

JE Kaise Bane? 2024 में Junior Engineer बनने से जुड़ी पूरी जानकारी

आज के समय का प्रत्येक युवा Engineer बनने का सपना देखता है क्योंकि यह एक सम्मानजनक पद है जो बड़े लेवल का पद माना जाता है। इस पद पर कार्यरत व्यक्ति को महत्वपूर्ण जिम्मेदारियां मिलती है और अच्छी सैलरी मिलती है। यही वजह है कि आज के समय में अधिकांश युवा इंजीनियर बनना चाहते हैं। आपकी जानकारी के लिए बता देते हैं कि वर्तमान समय में विभिन्न प्रकार के क्षेत्रों में इंजीनियर का काम किया जाता है तथा इंजीनियरिंग के तहत वे विभिन्न प्रकार के पद होते हैं। इन सभी पदों के लिए हर वर्ष लाखों युवाओं द्वारा आवेदन किया जाता है।

आज के समय में हमें हर क्षेत्र में बड़े-बड़े इंजीनियर देखने के लिए मिल जाते हैं वे सभी इंजीनियर हम सब की तरह ही होते हैं। इसीलिए अगर आप इंजीनियर बनने का सपना देख रहे हैं और आपको यह रास्ता नामुमकिन लगता है, तो आप बिल्कुल गलत है क्योंकि इस दुनिया में नामुमकिन कुछ भी नहीं होता है। अगर आप सही ढंग से मेहनत करते हैं और सही रणनीति बनाकर कठिन परिश्रम करते हैं तो अवश्य इंजीनियर बन सकते हैं।‌ इंजीनियरिंग के तहत आने वाले विभिन्न प्रकार के पदों में जूनियर इंजीनियर का पद भी शामिल है जो काफी महत्व रखता है।‌ आज के समय में लाखों युवा JE (Junior Engineer) बनना चाहते हैं।

आपकी जानकारी के लिए बता देते हैं कि Junior Engineer का पद विभिन्न प्रकार के विभागों के अंतर्गत आता है। यह एक महत्वपूर्ण पद है। इस पद पर कार्यरत इंजीनियर को जिम्मेदारियों से काम करना होता है।‌ इस पद पर कुछ समय अच्छा काम करने के बाद Promotion भी मिल जाता है। प्रत्येक विभाग के अंतर्गत आने वाले कार्य को कम समय में सफलतापूर्वक किस प्रकार से करना है। इसकी जिम्मेदारी इंजीनियर के ऊपर ही होती है। आमतौर पर जूनियर इंजीनियर का पद ग्रामीण विकास विभाग, योजनाएं विकास विभाग, भवन निर्माण विभाग, बिजली विभाग, रेलवे विभाग, जल संसाधन विभाग, पथ निर्माण विभाग इत्यादि विभिन्न प्रकार के विभागों के अंतर्गत आता है।

Junior Engineer क्या होता है? (JE in Hindi 2024)

JE kaise bane

जूनियर इंजीनियर को आमतौर पर shortcut में JE कहा जाता है। JE full form “Junior Engineer” होता है। यह एक इंजीनियर का ही पद होता है। इंजीनियरिंग के सत्र में ही इसका कार्य होता है। यह पद प्रत्येक विभाग के अंतर्गत आता है। आपकी जानकारी के लिए बता देते हैं कि मुख्य रूप से जूनियर इंजीनियर का पद बिजली विभाग, Railway विभाग, जल विभाग, संसाधन विभाग, विकास योजनाएं विभाग, ग्रामीण विकास विभाग, भवन निर्माण विभाग तथा इस प्रकार के अनेक सारे विभागों के अंतर्गत जूनियर इंजीनियर का पद आता है।

किसी भी विभाग के अंतर्गत काम करने वाले जूनियर इंजीनियर को उस विभाग के अंतर्गत आने वाले कार्य को सही ढंग से उचित समय पर सफलतापूर्वक अपनी जिम्मेदारी के अनुसार करवाना होता है। उस कार्य को सफलतापूर्वक सही ढंग से कराने के लिए ही इंजीनियर का कार्य होता है। इंजीनियर अपने विभाग के अंतर्गत आने वाले सभी कार्यों को अपनी जिम्मेदारी के अनुसार पूर्ण करवाता है। आज के समय में अनेक सारे विभागों के अंतर्गत ऐसे काम होते हैं जिसके लिए एक इंजीनियर की आवश्यकता होती है। ऐसी स्थिति में उन विभागों में एक इंजीनियर को नियुक्त किया जाता है जिसे Junior Engineer कहते हैं।

JE Kaise bane? (JE qualification in Hindi 2024)

Junior Engineer बनने के लिए आपके पास कुछ योग्यता का होना आवश्यक है। इस पद के लिए कुछ योग्यता निर्धारित की गई है इन्हें योग्यता के आधार पर यह सिद्ध किया जाता है कि जूनियर इंजीनियर बनने के लिए कौन-कौन उम्मीदवार योग्य है? इस योग्यता के आधार पर ही उन्हें जूनियर इंजीनियर बनने का अवसर दिया जाता है और उस परीक्षा में असफल होने पर जूनियर इंजीनियर बना दिया जाता है। जूनियर इंजीनियर बनने के लिए निर्धारित की गई योग्यता इस प्रकार है —

  • जूनियर इंजीनियर बनने के लिए आपको सबसे पहले दसवीं कक्षा पास करनी होगी। किसी भी मान्यता प्राप्त बोर्ड से आप दसवीं कक्षा पास कर सकते हैं।
  • जूनियर इंजीनियर बनने के लिए आपकी आयु कम से कम 18 वर्ष होनी चाहिए। इस पद के लिए अधिकतम आयु सीमा 32 वर्ष निर्धारित की गई है।
  • Junior Engineer बनने के लिए आरक्षित वर्ग के उम्मीदवारों को आयु सीमा में अतिरिक्त छूट प्रदान की गई है।
  • SC-ST वर्ग के उम्मीदवारों को आयु सीमा में अधिकतम 5 वर्ष की छूट प्रदान की गई है, जबकि OBC के उम्मीदवार को भी 3 वर्ष तक की छूट मिलती है।
  • दसवीं कक्षा पास करने के बाद जूनियर इंजीनियर बनने के लिए आपको Diploma की डिग्री प्राप्त करनी होगी।
  • जूनियर इंजीनियर बनने के लिए Polytechnic से Diploma करना होता है या इसके अंतर्गत डिग्री हासिल करनी होती है।
  • दसवीं कक्षा पास करने के बाद Diploma करने के लिए 3 वर्ष लगता है, जबकि 12वीं कक्षा पास करने के बाद इस कोर्स को करने में 2 वर्ष का समय लग जाता है।
  • जूनियर इंजीनियर बनने के लिए Diploma के तहत आप मैकेनिकल, Computer, Automobile, Civil तथा Electronic जैसे किसी भी विषय का चयन कर सकते हैं।
  • जूनियर इंजीनियर को अपने विभाग के अंतर्गत आने वाले कामों को तकनीकी के आधार पर मुख्य परियोजनाओं की planing के साथ पूरा करना होता है।

Junior Engineer का Exam Pattern

आज के समय में लगभग प्रत्येक क्षेत्र में इंजीनियर का काम होता है तथा विभिन्न प्रकार के विभाग में इंजीनियर नियुक्त किए जाते हैं। प्रत्येक कार्य के अनुसार Engineer की नियुक्ति होती है इसीलिए प्रत्येक इंजीनियर के पद का अलग पाठ्यक्रम होता है। आज हम बात कर रहे हैं जूनियर इंजीनियर की तो अब हम आपको जूनियर इंजीनियर बनने की परीक्षा के अंतर्गत आने वाला पाठ्यक्रम बताते हैं। इस पाठ्यक्रम को जानने के बाद तथा परीक्षा पैटर्न को जानने के बाद आपको पता चल जाएगा, कि किस तरह से परीक्षा आयोजित होती है और परीक्षा में किस प्रकार के प्रश्न पूछे जाते हैं।

आपकी जानकारी के लिए बता देते हैं कि जूनियर इंजीनियर की परीक्षा दो चरणों में पूर्ण होती हैं। पहले चरण में प्रारंभिक परीक्षा होती है तथा दूसरे चरण में मुख्य परीक्षा होती है, इसे फर्स्ट पेपर और सेकंड पेपर नाम से भी जाना जाता है। फर्स्ट पेपर में ऑब्जेक्टिव टाइप के प्रश्न पूछे जाते हैं, जबकि सेकंड पेपर में स्क्रिप्ट टाइप के प्रश्न पूछे जाते हैं। दोनों ही पेपर के लिए आपको दो 2 घंटे का समय दिया होता है। इस समय में दिए गए सभी प्रश्नों के उत्तर देने होते हैं फर्स्ट पेपर में 200 प्रश्न आते हैं और प्रत्येक प्रश्न एक अंक निर्धारित किया गया है यानी कि यह पेपर 200 प्रश्नों के साथ 200 अंकों का है।

द्वितीय चरण की मुख्य परीक्षा यानी सेकंड पेपर के अंतर्गत आपको डिस्क्रिप्शन टाइप के प्रश्न पूछे जाते हैं। यह पेपर 300 नंबर का होता है। इस पेपर को हल करने के लिए आपको 2 घंटे का समय दिया जाता है। आपकी जानकारी के लिए बता देते हैं कि यहां पर पर आपको दो अलग-अलग भाषाओं में मिल जाता है। पहली हिंदी और दूसरी इंग्लिश इन दोनों में से आप किसी भी एक भाषा में पेपर दे सकते हैं। आपकी जानकारी के लिए बता देते हैं कि प्रथम चरण की प्रारंभिक परीक्षा यानी फर्स्ट पेपर देने के बाद अगर आप उसमें पास होते हैं तो आप दूसरा पेपर दे सकते हैं। दूसरा पेपर पास करने के बाद मेरिट के आधार पर आपको जूनियर इंजीनियर बना दिया जाता है।

जूनियर इंजीनियर का सिलेबस (Junior Engineer Syllabus in Hindi 2024)

जूनियर इंजीनियर पेपर 1 का सिलेबस — इस पेपर में General Awareness, General Intelligence and Reasoning तथा  General Engineering से संबंधित प्रश्न दिए जाते हैं।

जूनियर इंजीनियर पेपर 2 का सिलेबस — जूनियर इंजीनियर बनाने की दूसरी परीक्षा यानी सेकंड पेपर में EE (Electrical Engineering), Mechanical Engineering तथा Civil and Structural Engineering से संबंधित प्रश्न पूछे जाते हैं।

Junior Engineer की सैलरी (Junior Engineer salary in India)

जूनियर इंजीनियर की सैलरी उसके अंतर्गत आने वाले विभाग के आधार पर भी निर्भर करती हैं। जूनियर इंजीनियर का पद राज्य सरकार और केंद्र सरकार के अंतर्गत आता है इसलिए यहां पर आपको अच्छी सैलरी मिलती है। आमतौर पर जूनियर इंजीनियर को शुरुआती समय में ₹50,000 दिए जाते हैं।‌ इसके अलावा विभिन्न प्रकार के भत्ते भी दिए जाते हैं। यह सैलरी कार्य के अनुसार और आपके अनुभव के आधार पर भी बढ़ती है। इसके अलावा प्रमोशन होने पर इससे भी अधिक सैलरी मिलती है यह एक बेहतरीन पद है। इस पद पर लाखों युवा कार्यरत होना चाहते हैं यह एक बेहतरीन करियर विकल्प माना जाता है।

People Also Read:-

IRDA में जॉब कैसे प्राप्त करें पूरी जानकारी?

भारत की सबसे ज्यादा सैलरी देने वाली Jobs की जानकारी।

Arts के बाद Career option कौन से होते हैं पूरी जानकारी।

Computer Engineer कैसे बनते हैं पूरी जानकारी

Conclusion

Junior Engineer इंजीनियर विभाग के अंतर्गत आने वाला एक महत्वपूर्ण पद है। इस पद की नियुक्ति विभिन्न प्रकार के विभागों में की जाती है। वर्तमान समय में महत्वपूर्ण तरह-तरह के प्रत्येक विभाग में इस पद की नियुक्ति की जाती है। अंतर्गत विभाग से संबंधित आने वाले सभी कार्यों को सुचारु रुप से उचित समय पर करने की जिम्मेदारी जूनियर इंजीनियर की होती हैं। जूनियर इंजीनियर समय पर विभाग के अंतर्गत आने वाले सभी कार्य को सुचारू रूप से और सही ढंग से पूर्ण करवाता है। आज के इस आर्टिकल में हम आपको पूरी जानकारी के साथ विस्तार पूर्वक बता चुके हैं कि जूनियर इंजीनियर क्या होता है? उम्मीद करते हैं यह जानकारी आपको जरूर पसंद आई होगी। अगर आपका कोई प्रश्न है? तो कमेंट करके पूछ सकते हैं।

Leave a Comment