NET और JRF में क्या अंतर है? | NET and JRF Difference in Hindi 2023

आज के समय में भारत में सैकड़ों की संख्या में परीक्षाओं का आयोजन करवाया जाता है जिससे विद्यार्थी कंफ्यूज रहे हैं कि कौन सी परीक्षा किस लिए हैं? तथा वे जिस फिल्ड में आगे बढ़ना चाहते हैं, उस फिल्ड में कौन-कौन सी परीक्षाएं होने वाली है? तथा उसे फील्ड में होने वाली परीक्षा में कौन-कौन से अंतर हैं? यह बात अगर अभ्यर्थी को पहले से पता हो, तो उस व्यक्ति के लिए किसी भी परीक्षा को पास करना काफी आसान हो जाता है। बता दें कि आज के समय में भारत में राज्य स्तर पर तथा राष्ट्रीय स्तर पर विभिन्न प्रकार की परीक्षाओं का आयोजन करवाया जाता है, उन सभी परीक्षाओं को श्रेणी के अनुसार विभाजित किया गया है।

भारत के कुछ ऐसे राष्ट्रीय एग्जाम होते हैं जिनमें देश भर के लाखों युवाओं द्वारा हिस्सा लिया जाता है। ऐसी स्थिति में अगर आपको उस परीक्षा के बारे में थोड़ी सी भी जानकारी हो, तो आपके लिए वह परीक्षा पास करने काफी आसान हो जाती हैं। अगर हम बात करें NET परीक्षा की तो यह भारत की एक राष्ट्रीय स्तर की पात्रता परीक्षा होती है, जिसमें देशभर के लाखों युवाओं द्वारा हिस्सा लिया जाता है। यह कंप्यूटर आधारित ऑनलाइन परीक्षा होती है जबकि पहले इस परीक्षा को ऑफलाइन करवाया जाता था। राष्ट्रीय स्तर पर कुछ महत्वपूर्ण पदों के लिए पहले इस परीक्षा से होकर गुजरना पड़ता है।

अगर आप एक विद्यार्थी हैं और किसी भी फील्ड में आगे बढ़ना चाहते हैं, तो इन दिनों आपने NET और JRF का नाम अवश्य सुना होगा। लेकिन क्या आपको पता है कि यह परीक्षा क्यों आयोजित करवाई जाती हैं। NET और JRF का फुल फॉर्म क्या है? इन दोनों ही परीक्षाओं में क्या समानता है? इन दोनों ही परीक्षाओं में क्या अंतर है? इन दोनों ही परीक्षाओं एग्जाम पैटर्न है? इन परीक्षाओं का आयोजन कब करवाया जाता है? इन परीक्षाओं को कौन कौन दे सकता है? इत्यादि जानकारी अगर आप प्राप्त करना चाहते हैं? तो इस आर्टिकल को अंत तक ध्यानपूर्वक पढ़ें। इस आर्टिकल में हम आपको NET और JRF में अंतर बताने वाले हैं। तो चलिए शुरू करते हैं —

NET Aur JRF Me Kya Anter Hai

NET परीक्षा क्या है? —

अगर आप एक विद्यार्थी हैं और आगे की पढ़ाई करना चाहते हैं या किसी पद पर कार्यरत होना चाहते हैं, तो अपने NET परीक्षा का नाम तो अवश्य सुना ही होगा। आपकी जानकारी के लिए बता देते हैं कि NET भारत की एक राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा है, जिसे वर्तमान समय में हर वर्ष लाखों और करोड़ों युवाओं द्वारा दिया जाता है। अगर हम बात करें NET फुल फॉर्म की तो NET का full form National eligibility test होता है, जिसे हिंदी में राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा कहते हैं। अगर आप राष्ट्रीय स्तर पर किसी पद के लिए आवेदन करते हैं तो आपको पहले इस परीक्षा को पास करना होता है। इस परीक्षा को पास करने के बाद यह सिद्ध हो जाता है कि आप उस पद के लिए आवेदन करने योग्य है।

NET परीक्षा महाविद्यालय और विश्वविद्यालय में शिक्षक अथवा प्रोफेसर बनने के लिए योग्यता सिद्ध करने हेतु आयोजित करवाई जाती हैं। इस परीक्षा से देश के बड़े-बड़े और प्रतिष्ठित विश्वविद्यालय तथा महाविद्यालयों के शिक्षक या प्रोफेसर बनने के लिए आवेदन करने वाले युवाओं की पात्रता परखी जाती है। इस परीक्षा का आयोजन नेशनल टेस्टिंग एजेंसी द्वारा हर वर्ष में दो बार करवाया जाता है, जिसके बीच 6 महीने का अंतराल होता है। आपकी जानकारी के लिए बता देते हैं कि सरकारी अथवा प्राइवेट शिक्षण संस्थान के अंतर्गत भी शिक्षक की नियुक्ति के लिए इसी परीक्षा को पास करना होता है।

NET परीक्षा के लिए योग्यता —

  • इस परीक्षा को देने वाला उम्मीदवार किसी भी मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएशन होना चाहिए।
  • NET परीक्षा देने के लिए उम्मीदवार का किसी भी मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी से पोस्ट ग्रेजुएशन की डिग्री में 55% अंक प्राप्त होने चाहिए।
  • राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा को देने के लिए अभ्यर्थी का पोस्टग्रेजुएट होना जरूरी है।
  • अगर कोई विद्यार्थी पोस्ट ग्रेजुएशन के अंतिम वर्ष में अध्ययन कर रहा है तो वह छात्र भी इस एग्जाम को दे सकता है।
  • जो अभ्यर्थी मास्टर की डिग्री की परीक्षा दे चुके हैं और रिजल्ट का इंतजार कर रहे हैं वे उम्मीदवार भी इस एग्जाम के लिए अप्लाई कर सकते हैं।
  • NET एग्जाम देने के लिए उम्मीदवार के पास मास्टर की डिग्री होना अनिवार्य किया गया है।
  • इस परीक्षा के लिए किसी भी प्रकार की आयु सीमा निर्धारित नहीं की गई है।

JRF परीक्षा क्या है? —

अगर कोई विद्यार्थी किसी भी कॉलेज या प्रतिष्ठित विश्वविद्यालय में सहायक प्रोफेसर के रूप में नौकरी करना चाहता है या UGC कोर्स करने के लिए प्रवेश करना चाहता है, तो यह परीक्षा विशेष रूप से उन लोगों के लिए ही आयोजित करवाई जाती है। यह एक राष्ट्रीय स्तर की पात्रता परीक्षा होती है जिसे हर वर्ष लाखों युवाओं द्वारा दिया जाता है। आपकी जानकारी के लिए बता देते हैं कि JRF परीक्षा का आयोजन विश्वविद्यालय अनुदान आयोग द्वारा करवाए जाता है। इस परीक्षा के अंतर्गत NET UGC एवं CSIR और ICMR से संबंधित विद्यार्थी मुख्य रूप से हिस्सा लेते हैं।

JRF परीक्षा का full form Junior Research Fellowship (जूनियर रिसर्च फैलोशिप) होता है। हिंदी में इसे राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा कहते हैं। इसके अलावा इसमें UGC NET नाम से भी जाना जाता है इस परीक्षा का आयोजन 1 वर्ष में दो बार करवाया जाता है, जिसके बीच 6 महीने का अंतराल होता है। बता दें कि हर वर्ष इस परीक्षा के अंतर्गत 1200000 उम्मीदवार शामिल होते हैं। आपकी जानकारी के लिए बता देते हैं कि JRF परीक्षा को भारत की सबसे कठिन परीक्षाओं में से एक माना जाता है क्योंकि इस परीक्षा में शामिल होने वाले कुल अभ्यर्थियों में से केवल 6% अभ्यर्थी ही सफल हो पाते हैं।

JRF परीक्षा के लिए योग्यता —

  • JRF परीक्षा के लिए आवेदन करने वाला अभ्यर्थी UGC द्वारा मान्यता प्राप्त संस्थान से पोस्ट ग्रेजुएट होना चाहिए।
  • इस परीक्षा के लिए अभ्यर्थी के पास मानविकी और समाज विज्ञान डिग्री में कम से कम 55 प्रतिशत अंक हासिल होने चाहिए।
  • JRF परीक्षा के आवेदक SC, ST, OBC and PwD श्रेणी से संबंधित हैं तो है अंक योग्यता के अंतर्गत 5% की छूट दी जाती हैं।
  • JRF परीक्षा के अंतर्गत ट्रांसजेंडर कैटेगरी के आवेदकों के लिए भी परीक्षा की अंक योग्यता में 5% की छूट का प्रबंध किया गया है।
  • इस परीक्षा के लिए आवेदन करने वाले उम्मीदवारों की आयु सीमा 30 वर्ष निर्धारित की गई है, इसके अलावा आरक्षित वर्ग के लोगों को 5 वर्ष की अतिरिक्त छूट दी जाती है।
  • JRF परीक्षा में उन लोगों को भी 5% अंकों की छूट मिलेगी जिन्होंने 19th September 1991 तक अपनी मास्टर्स डिग्री प्राप्त करली है‌।

NET Aur JRF Me Kya Anter Hai? (NET vs JRF in Hindi 2023)

अगर हम बात करें NET और JRF के बीच अंतर की, तो जैसा कि इस आर्टिकल में हमने आपको बताया है। उस जानकारी के अनुसार इन दोनों ही परीक्षाओं में कोई विशेष अंतर नहीं है। हालांकि दोनों में थोड़ा सा अंतर जरूर नजर आता है। लेकिन इन दोनों की समानता बहुत ज्यादा है। जैसे यह दोनों ही परीक्षाएं राष्ट्रीय स्तर की है तथा दोनों ही राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा मानी जाती है। इन दोनों ही परीक्षाओं से विश्वविद्यालय और महाविद्यालय के अंतर्गत शिक्षक या प्रोफेसर बनने के लिए पास किया जाता है। हालांकि JRF परीक्षा के अंतर्गत सहायक Professor बनते हैं तथा इसमें 30 वर्ष आयु सीमा निर्धारित की गई है। इसके अलावा इस परीक्षा के अंतर्गत आरक्षित वर्ग को 5% अंको में छूट का प्रावधान भी निर्धारित किया गया है।

People Also Read:-

STET और UPTET में क्या अंतर होता है?

Top 10 सबसे ज्यादा सैलरी देने वाली Jobs की जानकारी।

राजस्थान Review Officer कैसे बने पूरी जानकारी?

Post Graduation के बाद क्या करें संपूर्ण जानकारी?

Conclusion

NET और JRF दोनों ही भारत की राष्ट्रीय पात्रता परीक्षाएं हैं। इन दोनों ही परीक्षाओं को पास करना इतना आसान नहीं है क्योंकि हर वर्ष लाखों की संख्या में भारत के कोने कोने से युवाओं द्वारा इस परीक्षा के लिए आवेदन किया जाता है। JRF परीक्षा को भारत की सबसे कठिन परीक्षाओं में से एक माना गया है। अगर आप भी देश के बड़े-बड़े और प्रतिष्ठित विश्वविद्यालय तथा महाविद्यालय के अंतर्गत शिक्षक अथवा प्रोफ़ेसर बनना चाहते हैं, या इस फिल्ड में आगे बढ़ना चाहते हैं, तो आपको इन परीक्षाओं को पास करना होगा। इन दोनों ही परीक्षाओं के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी और इन दोनों के बीच का अंतर इस आर्टिकल में हम आपको विस्तार पूर्वक बता चुके हैं‌। हमें उम्मीद है यह जानकारी आपको जरूर पसंद आई होगी। अगर आपका इस आर्टिकल से संबंधित कोई भी प्रश्न है? तो आप नीचे दिए गए कमेंट सेक्शन में कमेंट करके पूछ सकते हैं।