PGT Teacher कैसे बने? 2022 में पीजीटी की संपूर्ण जानकारी

भारत में मुख्य तौर पर टीचर के पद को काफी सम्मानजनक पद माना जाता है और भारत में बहुत सारे ऐसे विद्यार्थी हैं। जो टीचर बनने का सपना देखते हैं। टीचर बन कर विद्यार्थी अपने भविष्य को पूरी तरह से सुरक्षित और उज्जवलित करना चाहते हैं।

विद्यार्थी के लिए टीचर बनना एक बड़ी चुनौती की तरह होता है। लेकिन टीचर बनना काफी आसान है। यदि आप सही तरीके से मेहनत करते हैं तो आप अवश्य टीचर बन जाते हैं। टीचर बनने के लिए विद्यार्थी अलग-अलग प्रकार के कोर्स को करते हैं।

टीचर बनने की श्रेणी में आपने पीजीटी शब्द सुना होगा। यह शब्द टीचर बनने की श्रेणी में उपयोग होने वाला एक लोकप्रिय शब्द है। पीजीटी शब्द का प्रयोग मुख्य तौर पर टीचर बनने वाले विद्यार्थी किया करते हैं PGT क्या होता है और पीजीटी टीचर कैसे बने? (PGT Teacher Kaise Bane) इसके बारे में आज के इस आर्टिकल में हम आपको जानकारी देने का प्रयास करेंगे।

पीजीटी क्या होता है? (PGT Kya Hota Hai)

PGT Teacher कैसे बने? 2022 में पीजीटी की संपूर्ण जानकारी

शिक्षा के क्षेत्र में पीजीटी एक प्रकार की उपलब्धि होती है ऐसे भी कह सकते हैं। कि पीजीटी कोई भी पोस्ट नहीं है यह एक प्रकार का टाइटल है। यह उन विद्यार्थियों को दिया जाता है, जो पोस्ट ग्रेजुएशन और B.Ed की डिग्री पूरी करने के पश्चात प्राइवेट स्कूलों में पढ़ाने के लिए योग्य हो जाते हैं।

उन्हें पीजीटी कंप्लीट करके पीजीटी का टाइटल दिया जाता है। जो विद्यार्थी कक्षा दसवीं तक का टीचर बनने के लिए परीक्षाओं में शामिल होता है। उन परीक्षाओं को टीजीटी परीक्षा कहा जाता है। जो इस जा रही और बारहवीं कक्षाओं के लिए शिक्षक बनने की प्लान करता है। उन विद्यार्थियों को पीजीटी की परीक्षा देनी होती है और पीजीटी की परीक्षा देकर टीचर बन सकता है।

विद्यार्थी राज्य सरकार द्वारा निकाली जाने वाली पीजीटी परीक्षा सभी राज्यों में मुख्य तौर पर निकाली जाती है और पीजीटी की परीक्षा को TGT की तुलना में काफी कठिन भी माना जाता है। क्योंकि टीजीटी परीक्षा नीचे स्तर की परीक्षा होती है और पीजीटी परीक्षा उच्च स्तर की परीक्षा होती है। पीजीटी परीक्षा की तैयारी कैसे करें? इसके बारे में हम आपको नीचे कुछ जानकारी महत्व पूर्ण रूप से प्रदान करवा रहे हैं।

अवश्य देखें:- TGT अध्यापक कैसे बने? पूरी जानकारी।

PGT की फुल फॉर्म क्या होती है?

PGT ki full form की हम बात करें तो पीजीटी एक अंग्रेजी का शॉर्ट फॉर्म शब्द है। जिसका एक पूरा नाम निर्धारित किया गया है, PGT की फुल फॉर्म पोस्ट ग्रेजुएट टीचर होता है। जिसे अंग्रेजी में भी Post Graduate Teacher कहते हैं। जो विद्यार्थी इस वक्त पर करने के पश्चात शिक्षक बनना चाहता है।

उन विद्यार्थियों को पीजीटी के लिए योग्य माना जाता है और पीजीटी फुल फॉर्म से यह साबित होता है, कि वह विद्यार्थी Post Graduation और B.Ed की डिग्री हासिल करने के बाद पीजीटी परीक्षा के लिए योग्य होता है। उसके पश्चात पीजीटी परीक्षा में आवेदन कर के विद्यार्थी पीजीटी टीचर बन सकता है।

पीजीटी के लिए जरूरी योग्यता

जो विद्यार्थी पीजीटी परीक्षा में अपना आवेदन लगाकर पीजीटी के तहत टीचर बनने का सपना देख रहे हैं। उन विद्यार्थियों को कई प्रकार की मुख्य योगिता जो सरकार के द्वारा निर्धारित की गई है। उन योग्यता के मापदंड को पूरा करके पीजीटी परीक्षा के लिए योग्य होना जरूरी है।

  • पीजीटी परीक्षा के लिए जरूरी योग्यता की बात करें तो आवेदन करने वाला नागरिक न्यूनतम 21 वर्ष का होना चाहिए।
  • आवेदन करने वाले विद्यार्थी के पास भारत की नागरिकता होनी चाहिए।
  • आवेदन करने वाले विद्यार्थी की ग्रेजुएशन डिग्री अच्छे अंकों के साथ पूरी की हुई होनी चाहिए।
  • विद्यार्थी पीजीटी की परीक्षा देने के लिए Post Graduation और B.Ed की डिग्री हासिल करने के बाद ही योग्य होता है।
  • PGT की परीक्षा देने के लिए अधिकतम उम्र निर्धारित नहीं की गई है। आप किसी भी उम्र वर्ग में पीजीटी की परीक्षा दे सकते हैं।

पीजीटी टीचर कैसे बने? (PGT Teacher kaise bane)

जो विद्यार्थी पीजीटी टीचर बनना चाहता है। उस विद्यार्थी को नीचे दिए गए निर्णय लिखित चरणों को एक के बाद एक करके फॉलो करना होगा।

  • सबसे पहले विद्यार्थी को पीजीटी टीचर बनने के लिए 12 वीं कक्षा अच्छे नंबरों के साथ पास करनी है।
  • पीजीटी टीचर बनने के लिए विद्यार्थी के पास मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएशन की डिग्री होनी चाहिए।
  • ग्रेजुएशन की डिग्री पूरी करने के पश्चात विद्यार्थी को पोस्ट ग्रेजुएशन की डिग्री और उसके पश्चात बीएड डिग्री करनी होगी।
  • B.Ed की डिग्री पूरी करने वाले विद्यार्थी को पीजीटी टीचर बनने के क्षेत्र में प्राथमिकता दी जाती है।
  • B.Ed का कोर्स पूरा करना पीजीटी टीचर बनने के लिए बहुत ही ज्यादा जरूरी है।
  • बीएड और पोस्ट ग्रेजुएशन डिग्री पूरी करने के पश्चात विद्यार्थी को सरकार के द्वारा आयोजित पीजीटी परीक्षा में अपना आवेदन लगाना होगा।
  • आवेदन लगाने के पश्चात पीजीटी परीक्षा में भाग लेना होगा और जब विद्यार्थी पीजीटी परीक्षा में भाग लेकर परीक्षा दे देता है। तो उसके पश्चात रिजल्ट की घोषणा की जाती है और रिजल्ट में यदि विद्यार्थी का चयन होता है।
  • अगले चरण के तौर पर पीजीटी टीचर को इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है।
  • इंटरव्यू के पश्चात एक फाइनल मेरिट लिस्ट का आकलन होता है।
  • जैसे ही विद्यार्थी फाइनल मेरिट लिस्ट में चयनित होता है तो उसके पश्चात विद्यार्थी को पीजीटी टीचर का दर्जा मिल जाता है।
  • उसके पश्चात अध्यापक पीजीटी अध्यापक के तौर पर सरकारी व प्राइवेट संस्थान में टीचर के तौर पर पढ़ा सकता है।

पीजीटी टीचर की परीक्षा का Exam Pattern 2022

पीजीटी परीक्षा के लिए एक निर्धारित एग्जाम पैटर्न किया गया है। यह एग्जाम पैटर्न के आधार पर ही पीजीटी प्रश्न पत्र परीक्षा में जारी होता है।

हर सरकारी परीक्षा के लिए एक निश्चित परीक्षा पैटर्न की घोषणा पहले ही कर दी जाती है। उसी प्रकार से पीजीटी परीक्षा के एग्जाम पैटर्न की घोषणा कुछ इस प्रकार से की गई हैः

1. विद्यार्थी के लिए पीजीटी की लिखित परीक्षा के कुल अंक 425 होते हैं।

2. विद्यार्थी पीजीटी की परीक्षा में जब शामिल होते हैं तो विद्यार्थी के प्रश्न पत्र में 125 विकल्प वाले प्रश्न मिलते हैं।

3. इन सवालों का जवाब आपको ओएमआर शीट के तौर पर देना होता है और वह हमार सीट में आपके सवालों का जवाब देकर उस उत्तर तालिका को परीक्षा हॉल छोड़ने से पहले जमा करवाना होता है।

4. विद्यार्थी के लिए पीजीटी की लिखित परीक्षा के पेपर को हल करने के लिए विद्यार्थी को 2 घंटे का समय दिया जाता है।

5. पीजीटी की परीक्षा में किसी भी प्रकार की नेगेटिव मार्केटिंग नहीं है। पीजीटी की परीक्षा में यदि आप सही उत्तर देते हैं तो आपको 3.4 अंक मिलते हैं और नेगेटिव मार्केटिंग के तौर पर कोई भी अंक नहीं काटा जाता है।

6. लिखित परीक्षा में पास होने वाले विद्यार्थियों के लिए एक इंटरव्यू को आयोजन होता है और इंटरव्यू में कुल 50 अंकों का निर्धारण होता है। आपके इंटरव्यू के आधार पर 50 में से कितने अंक आपको मिलते हैं। वह आपके फाइनल मेरिट लिस्ट में जोड़ दिए जाते हैं।

7. कोई उम्मीदवार कोई स्पेशल क्वालिफिकेशन के साथ पीजीटी की परीक्षा दे रहा है। तो ऐसे में उस विद्यार्थी को प्राथमिकता दी जाती है और उसके लिए विद्यार्थी को 25 अंक ही दिए जाते हैं। उदाहरण के तौर पर यदि विद्यार्थी ने कोई प्रकार की डॉक्टर की डिग्री हासिल कर रखी है, या M.Ed की डिग्री हासिल की तो विद्यार्थी को 25 अंक अलग से मिलते हैं

8. ऐसे कुल मिलाकर पीजीटी की परीक्षा के कुल अंक 500 होते हैं 425 अंक लिखित परीक्षा के 50 अंक इंटरव्यू के और 25 अन्य स्पेशल क्वालिफिकेशन के तौर पर विद्यार्थी को मिलते हैं। कुल मिलाकर 500 अंक का यह पीजीटी का परीक्षा का पैटर्न पूरा होता है और उसी के आधार पर आपके मेरिट लिस्ट की घोषणा की जाती है।

PGT के लिए चयन की प्रक्रिया

जब उम्मीदवार किसी भी सरकारी नौकरी को हासिल करने के लिए तैयारी करता है। तो उम्मीदवार को एक निश्चित चयन प्रक्रिया से गुजरना होता है। पीजीटी टीचर बनने की चयन प्रक्रिया कुछ इस प्रकार से हैः

1. लिखित परीक्षाः पीजीटी टीचर बनने वाले विद्यार्थियों के लिए सबसे पहले लिखित परीक्षा की पहली कड़ी से विद्यार्थी को गुजरना होता है। विद्यार्थी के सामने चयन प्रक्रिया में पहला चरण लिखित परीक्षा का होता है। जिसमें विद्यार्थी को पाठ्यक्रम के अनुसार पूछे गए सवाल का जवाब देकर इस परीक्षा को पास करना होता है।

2. इंटरव्यूः जो विद्यार्थी लिखित परीक्षा में चयनित हो जाते हैं। उन विद्यार्थियों को अगले चरण के तौर पर इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है और इंटरव्यू पीजीटी टीचर के लिए काफी कठिन चरण माना जाता है। क्योंकि यहां पर किस प्रकार के सवाल पूछे जाएंगे। इसकी कोई जानकारी पहले से नहीं होती है और यहां का निश्चित पाठ्यक्रम भी नहीं होता है। ऐसे में आपको पीजीटी का इंटरव्यू बड़ी सावधानी के साथ क्लियर करना होगा।

3. स्पेशल क्वालिफिकेशनः इंटरव्यू में चयनित होने वाले विद्यार्थियों की स्पेशल क्वालिफिकेशन की जांच की जाती है। जो विद्यार्थी स्पेशल क्वालिफिकेशन यानी कि किसी भी डॉक्टर डिग्री या M.ed की डिग्री हासिल कर चुके हैं। उन विद्यार्थियों को 25 अंक स्पेशल क्वालिफिकेशन के तौर पर दिए जाते हैं और स्पेशल क्वालिफिकेशन रखने वाले उम्मीदवारों की पीजीटी में चयन होने की संभावना काफी अधिक बढ़ जाती है।

4. दस्तावेज सत्यापनः पीजीटी अध्यापक बनने वाले उम्मीदवार के लिए आखिरी चरण के तौर पर दस्तावेज सत्यापन की प्रक्रिया से गुजरना होता है। जब विद्यार्थी की मेरिट लिस्ट निकल जाती है और मेरिट लिस्ट पर विद्यार्थी का नाम आ जाता है। तो विद्यार्थी को चयनित होने से पहले अपने दस्तावेज का सत्यापन करवाना होगा। दस्तावेज सत्यापित होने के बाद विद्यार्थी को जॉइनिंग लेटर प्रदान करवाया जाता है।

पीजीटी परीक्षा का सिलेबस क्या है

हर परीक्षा के लिए एक सिलेबस का निर्धारण पहले से ही हो जाता है। पीजीटी परीक्षा में शामिल विषयों और पीजीटी परीक्षा के सिलेबस की जानकारी हम नीचे आपको कुछ इस प्रकार के प्रदान करवा रहे हैं।

  • सामान्य ज्ञान
  • अंग्रेजी
  • गणित
  • बायोलॉजी
  • केमिस्ट्री
  • इकोनॉमिक
  • हिंदी
  • संस्कृत
  • ज्योग्राफी
  • पॉलिटिकल
  • साइंस
  • साइकोलॉजी
  • हिस्ट्री
  • होम साइंस
  • फिजियोलॉजी
  • इनफॉर्मेटिव प्रेक्टिस
  • कंप्यूटर साइंस
  • हेल्थ केयर
  • बिजनेस स्टडी

पीजीटी परीक्षा की तैयारी कैसे करें?

जो विद्यार्थी पीजीटी टीचर बनना चाहते हैं। उन विद्यार्थियों को पीजीटी परीक्षा की तैयारी कैसे करें? इसके बारे में जानकारी लेना बहुत ही ज्यादा जरूरी है। क्योंकि पीजीटी परीक्षा काफी उच्च स्तरीय परीक्षा होती है।

जिसमें सामान्य तौर पर सामान्य तरीके से तैयारी करने वाले विद्यार्थियों को कई प्रकार की समस्याओं का सामना करना पड़ता है। पीजीटी परीक्षा की तैयारी कैसे करें इसके बारे में नीचे कुछ महत्वपूर्ण जानकारी दी गई है। जिसे पढ़कर आप पीजीटी परीक्षा की तैयारी आसानी से कर सकते हैंः

  • पीजीटी परीक्षा की तैयारी करने के लिए सबसे पहले आपको एक लक्ष्य निर्धारित करना होगा और उसी लक्ष्य को ध्यान में रखते हुए आपको तैयारी करनी होगी।
  • पीजीटी परीक्षा के लिए आपको इंटरनेट और सोशल मीडिया से दूरी बनानी होगी।
  • हालांकि इंटरनेट के माध्यम से आप पीजीटी परीक्षा के तरह बस और पैटर्न को ढूंढ सकते हैं और उसे अच्छे से समझ सकते हैं।
  • पीजीटी परीक्षा की तैयारी करने के लिए आपको अपने पढ़ाई का टाइम टेबल निर्धारित करना होगा और उसी निर्धारित टाइम टेबल के आधार पर आपको अपनी पढ़ाई पर पूरा ध्यान देना होगा।
  • प्रतिदिन अधिकतम 10 से 12 घंटे तक आपको पढ़ाई करनी होगी। इससे अधिक भी कर सकते हैं।
  • पीजीटी परीक्षा में जो भी आपत्ति सप्ताह में पढ़ते हैं। उस सप्ताह के अंत में दो बार पढ़े गए पूरे पाठ्यक्रम का रिवीजन आवश्यक है। ताकि आपके द्वारा याद गई की गई चीजें आपके लिए एकदम सटीक हो सके।
  • उसके पश्चात आपको पीजीटी की ऑनलाइन टेस्ट हल करने की सीरीज को भी ज्वाइन करना चाहिए, या फिर पुराने प्रश्न पत्रों को हल करके भी आप अपने गति में कहां सुधार ला सकते हैं।
  • पीजीटी परीक्षा के लिए 2 घंटे का निश्चित समय दिया जाता है। आपको उस हिसाब से प्रयास करना जरूरी है।
  •  पीजीटी परीक्षा के दौरान आपको घबराहट दूर रखकर आत्मविश्वास के साथ पीजीटी परीक्षा में आपको शामिल होना है और शामिल होने के पश्चात बेहतर परफार्मेंस के साथ पीजीटी परीक्षा को हल करना है।

पीजीटी के बाद अध्यापक की सैलरी

जो उम्मीदवार पीजीटी परीक्षा की तैयारी करता है और पीजीडी अध्यापक बन जाता है, तो उम्मीद वार के मन में एक सवाल सबसे पहले खटकता है कि अब उसे सैलरी कितनी मिलेगी।  पीजीटी अध्यापक बनने के पश्चात शुरुआती सैलरी का यदि आकलन किया जाए तो पीजीटी अध्यापक को बेसिक सैलरी के तौर पर प्रति महीना ₹47000 से लेकर ₹60000 दिया जाता है।

इसके अलावा विद्यार्थी को कई प्रकार के सरकारी भत्ते भी मिलते हैं और भविष्य में जिस प्रकार के आपको प्रमोशन दिया जाता है। उसी प्रकार से सैलरी में भी बढ़ोतरी हो जाती है।

निष्कर्ष

इस पीजीटी टीचर की प्रक्रिया को पूरा करके आप pgt टीचर आसानी से बन सकते हैं और उच्च लेवल की नौकरी हासिल कर सकते हैं।

आज के इस आर्टिकल में हमने आपको pgt क्या होता है और पीजीटी टीचर कैसे बने? (PGT Teacher Kaise Bane) इसके बारे में डिटेल में जानकारी दी है। हमें उम्मीद है, कि हमारे द्वारा दी गई जानकारी आपको पसंद आई होगी। यदि किसी व्यक्ति को हमारे इस आर्टिकल से जुड़ा हुआ कोई भी सवाल है। तो वह हमें कमेंट के जरिए बता सकता है, धन्यवाद।

Leave a Comment