SDO क्या है और कैसे बने? 2022 में SDO full form से Salary तक की पूरी जानकारी

SDO का पद सरकारी नौकरी के लिए एक बेहतरीन सम्मानजनक पद माना जाता है। आज के अधिकांश युवा SDO बनना चाहते हैं। इस पद के अंतर्गत समाज में जहां सम्मान मिलता है। वहीं दूसरी तरफ इस पद पर खुद सरकार द्वारा परीक्षा का आयोजन करके नियुक्तियां दी जाती है। यह एक मुख्य पद है जो अपने आप में विशेष है। इस पद पर कार्यरत अधिकारी अपने विभाग के अंतर्गत महत्वपूर्ण कार्य करता है तथा विभागों की पूरी जिम्मेदारी अपने कंधों पर उठाता है। इसीलिए वर्तमान समय में इस पद के लिए अधिकांश युवा मेहनत करते हैं। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इस पद पर कार्यरत अधिकारी को सरकार की तरफ से अच्छी सैलरी दी जाती है तथा विभिन्न प्रकार की सरकारी सुविधाएं भी प्रदान की जाती है।

वर्तमान समय में बढ़ती जनसंख्या तथा विभिन्न प्रकार के प्रमुख और जरूरी कार्यों के लिए तरह-तरह के विभाग एवं कार्यालय खुले जा रहे हैं। आज के समय में भारत में सैकड़ों और हजारों की संख्या में ऐसे विभाग है जो सरकार की तरफ से जनता के उत्थान के लिए खोले गए हैं। इन विभाग के अंतर्गत कार्य करने वाले अधिकारी विभिन्न प्रकार की जिम्मेदारियों के साथ जनता की सेवा करते हैं। इसीलिए इन विभागों के अंतर्गत कार्य करने वाले अधिकारियों को योग्यता के आधार पर परीक्षा के द्वारा चयन कर गए सरकार द्वारा नियुक्त किया जाता है। यहां पर बैठने वाले अधिकारी अपने अनुसार कर्तव्य का पालन करते हैं।

SDO पद के लिए हर वर्ष सरकार द्वारा परीक्षा का आयोजन करवाया जाता है। इस परीक्षा को पास करने वाले व्यक्ति को योग्यता और अंकों के आधार पर विभिन्न प्रकार के विभाग में ऐसे लोगों के पद पर नियुक्त किया जाता है। इस पद की गरिमा को बनाए रखने के लिए सरकार एक विशेष प्रकार की परीक्षा का आयोजन करवाती है जिसके तहत ऐसे व्यक्ति ही पास हो पाते हैं जो इस पद के लिए योग्य है। इस पद पर कार्यरत व्यक्ति को सरकार की तरफ से अच्छी सैलरी दी जाती है। इसके अलावा भी प्रकार की सुविधाएं भी उपलब्ध करवाई जाती है। यही वजह है कि आज के समय में अधिकांश विभागीय अधिकारी बनना चाहते हैं तो आइए जानते हैं कि SDO अधिकारी कैसे बनें?

SDO क्या होता है?

यह एक किसी भी विभाग का सबसे बड़ा अधिकारी होता है। SDO का full form Sub Divisional Officer होता है। हिंदी में इसे ‘अनुमंडल पदाधिकारी‘ या ‘अनुविभागीय अधिकारी‘ कहते हैं। यह एक मुख्य पद होता है जो पूरे विभाग की जिम्मेदारी निभाता है तथा अपने कर्तव्य का पालन करता है एसडीओ वर्तमान समय में भारत के विभिन्न विभागों पर नियुक्त किए जाते हैं। आमतौर पर बिजली विभाग, सिंचाई विभाग, समाज कल्याण विभाग एवं पुलिस विभाग जैसे बड़े-बड़े विभागों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के लिए SDO को नियुक्त किया जाता है।

किसी भी विभाग के अंदर किए जाने वाले प्रत्येक और महत्वपूर्ण कार्य को एसडीओ की अनुमति के बाद ही किया जाता है। इसीलिए एसएडीओ की जिम्मेदारी काफी ज्यादा बढ़ जाती है क्योंकि किसी भी विभाग के अंतर्गत होने वाले और माननीय तथा नुकसानदेह कार्य की जिम्मेदारी भी एसडीओ अधिकारी की ही होती है। इसीलिए एसडीओ अधिकारी अपनी सूझबूझ के साथ तथा अपनी योग्यता से विभाग के अंतर्गत महत्वपूर्ण कार्य करवाता है और सभी सुचारू नीति नियमों का अच्छी तरह से पालन करता है। विभाग के अंतर्गत कार्य करने वाले सभी पदाधिकारी और अधिकारी तथा कर्मचारी एसडीओ के अंतर्गत आते हैं।

एसडीओ अधिकारी अपने विभाग के अंतर्गत सभी तरह के काम की जांच करता है तथा काम से संबंधित फाइलों को सही तरह से सुरक्षित रखता है। फाइलों को एसडीओ अधिकारी द्वारा विभाग के ऊपरी अधिकारियों को भी सौंपी जाती है। एसडीओ अधिकारी विभाग के अंतर्गत होने वाले कार्यों की जांच करता है और सभी तरह के कार्यों को सही ढंग से संपन्न करवाता है। एसडीओ अधिकारी देश के प्रत्येक जिलों में नियुक्त किए जाते हैं लेकिन इनका कार्य राज्य सरकार के अंतर्गत होता है तथा यह अपने कार्य की रिपोर्ट भी राज्य सरकार को ही सकते हैं। तो आइए जानते हैं कि SDO अधिकारी कैसे बनते हैं।

SDO बनने के लिए योग्यता (SDO Eligibility in Hindi 2022)

SDO की नियुक्ति राज्य सरकार द्वारा की जाती है। यह अधिकारी प्रत्येक जिले में नियुक्त किए जाते हैं। यह एक अत्यंत महत्वपूर्ण पद है। इसीलिए इस पद पर योग्य अधिकारी का होना अत्यंत आवश्यक है। योग्यता सिद्ध करने के लिए सरकार द्वारा कुछ योग्यताएं निर्धारित की गई है जिसके आधार पर कोई भी व्यक्ति SDO बन सकता है। सरकार द्वारा निर्धारित की गई योग्यताओं की सूची में शिक्षा सबसे प्रथम है। उसके बाद शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य भी जरूरी है।

सरकार द्वारा एसडीओ बनाने के लिए निर्धारित की गई योग्यताओं में सबसे पहले आपको कम से कम 21 वर्ष की आयु पार करनी होगी। तभी आप एसडीओ अधिकारी बनने के लिए आवेदन कर सकते हैं। इसकी अधिकतम आयु सीमा 30 वर्ष है। इसके अलावा अगर आप आरक्षित वर्ग से संबंध रखते हैं तो सरकार द्वारा आयु सीमा में अतिरिक्त छूट दी जाती है। यह चोट 3 वर्ष तक निर्धारित की गई है। इसके अलावा एसडीओ बनने वाले विद्यार्थी को किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से स्नातक की डिग्री प्राप्त करनी होगी जिसमें कॉमर्स, आर्ट्स, विज्ञान एवं इंजीनियरिंग जैसे विषय शामिल है।

SDO अधिकारी कैसे बनें?

SDO kaise bane

एसएडीओ अधिकारी बनने के लिए सरकार द्वारा निर्धारित की गई योग्यताओं के आधार पर कोई भी व्यक्ति एसडीओ अधिकारी बन सकता है। एसडीओ अधिकारी बनने के लिए सरकार द्वारा दो प्रकार निर्धारित किए गए हैं। पहला है प्रमोशन! और दूसरा परीक्षा पास करके! आपकी जानकारी के लिए बता दें कि अगर आप इस तरह के किसी भी विभाग में कार्य करते हैं तो अच्छा काम करने वाले अधिकारियों को उनके काम के अनुसार प्रमोशन करके SDO अधिकारी बना दिया जाता है।

प्रमोशन के आधार पर एसडीओ अधिकारी बनना काफी आसान है क्योंकि इसके अंतर्गत आपको केवल अपने कर्तव्य का पालन करते हुए अच्छे काम करने हैं। दूसरे तरीका है परीक्षा पास करके SDO अधिकारी बनाना इस परीक्षा को राज्य सरकार द्वारा आयोजित करवाया जाता है। राज्य सरकार के दिशा निर्देश अनुसार हर वर्ष लोक सेवा आयोग द्वारा एसडीओ ऑफिसर बनने के लिए परीक्षाओं का आयोजन करवाया जाता है। परीक्षा में आवेदन करके परीक्षा पास करके आप भी एसडीओ अधिकारी बन सकते हैं।

एसडीओ अधिकारी बनने के लिए आपके पास कम से कम स्नातक की डिग्री प्राप्त होनी चाहिए इसके अलावा आयु सीमा और दूसरी योग्यताएं इस आर्टिकल में ऊपर हमने आपको पूरी जानकारी के साथ विस्तार से बता दी है। बताई गई सभी योग्यताओं के आधार पर कोई भी व्यक्ति ऐसे भी हो अधिकारी बन सकता है। यह परीक्षा काफी कठिन होती है क्योंकि इसका आयोजन लोक सेवा आयोग (UPSC) द्वारा करवाया जाता है। इसीलिए इस परीक्षा को पास करना काफी कठिन है लेकिन आप नियमित रूप से प्रतिदिन मेहनत करते हैं तो अवश्य ही इस परीक्षा को पास कर पाएंगे।

SDO ऑफिसर की चयन परीक्षा —

लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित एसडीओ चयनित परीक्षा को तीन भागों में बांटा गया है। पहले भाग में प्रारंभिक परीक्षा होती है। दूसरे भाग में मुख्य परीक्षा होती है और तीसरे भाग में मौखिक परीक्षा होती है यानी इंटरव्यू लिया जाता है अगर आप इन तीनों ही परीक्षा को पास कर देते हैं और उसके बाद मेरिट लिस्ट में आपका नंबर आता है तो सफलतापूर्वक आप ऐसे ही हो अधिकारी बन जाते हैं। लेकिन इसके लिए आपको कड़ी मेहनत करनी होगी तथा लगातार परीक्षा के लिए समय देना होगा तभी आप इस परीक्षा को पास कर पाएंगे दो ही जानते हैं। इन परीक्षा के प्रकार —

प्रारम्भिक परीक्षा —

एसडीओ अधिकारी बनाने के लिए लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित परीक्षा का यह प्रथम चरण है। इसमें 200-200 अंकों के दो पेपर दिए जाते हैं। इन दोनों ही पेपर में विभिन्न विषयों से संबंधित प्रश्न पूछे जाते हैं जैसे सामान्य ज्ञान अंग्रेजी गणित तर्कशक्ति इत्यादि अगर आप सफलतापूर्वक इस परीक्षा को पास कर लेते हैं तो आपको दूसरे चरण यानी मुख्य परीक्षा के लिए बुलाया जाता है।

मुख्य परीक्षा —

एसएडीओ अधिकारी बनने के लिए लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित की गई इस परीक्षा का यह दूसरा चरण है। इसके तहत विभिन्न प्रकार के प्रश्न परीक्षार्थी द्वारा पूछे जाते हैं। यह मुख्य लिखित परीक्षा है। यह परीक्षा पहले चरण के प्रारंभिक परीक्षा के मुकाबले कठिन होती है। इसीलिए इस परीक्षा को प्रत्येक विद्यार्थी पास नहीं कर पाता है। अगर आप इस परीक्षा को पास कर लेते हैं तो आपको तीसरे चरण की परीक्षा यानी इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है।

साक्षात्कार —

लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित एसएडीओ अधिकारी बनने की परीक्षा के तीसरे चरण के अंतर्गत इंटरव्यू के लिए केवल उन्हीं विद्यार्थियों को बुलाया जाता है, जिन्होंने प्रथम चरण की प्रारंभिक परीक्षा और द्वितीय चरण की मुख्य परीक्षा पास कर ली है। अब उन्हें यहां पर उच्च अधिकारियों द्वारा पूछे गए प्रश्नों के उत्तर देकर इंटरव्यू पास करना होता है। तभी उनका चयन मेरिट लिस्ट के लिए किया जाएगा। यहां पर इंटरव्यू के दौरान विद्यार्थी से उनकी ज्ञान, शक्ति, योग्यता, बुद्धि एवं आत्मविश्वास से संबंधित कुछ प्रश्न पूछे जाते हैं।

People Also Read:-

SDM कैसे बने पूरी जानकारी?

DM क्या होता है और कैसे बने पूरी जानकारी?

SHO कैसे बनते हैं फुल फॉर्म से सैलरी तक पूरी जानकारी?

DIG क्या होता है और DIG की तैयारी कैसे करें?

CBI ऑफिसर क्या होता है और कैसे बने संपूर्ण जानकारी?

SDO अधिकारी का वेतन (SDO Salary in India 2022)

एसएडीओ अधिकारी का पद कितना महत्वपूर्ण होता है और किस तरह से एसडीओ अधिकारी बनते हैं। यह जानकारी अब तक आपने प्राप्त कर ली है तो अब आप यह जान लीजिए कि एसडीओ अधिकारी का वेतन कितना होता है? आपकी जानकारी के लिए हम आपको बता देते हैं कि एसडीओ अधिकारी को शुरुआती तौर पर ₹25000 हर महीने वेतन दिया जाता है। इसके अलावा सीनियर एसडीओ अधिकारी को ₹80000 से लेकर ₹100000 तक भी वेतन दिया जाता है। इसके अलावा सरकार की तरफ से मिलने वाले विभिन्न प्रकार की सुविधाएं जैसे मकान, वाहन, टेलीफोन सुविधा है।

Conclusion

एसडीओ अधिकारी किसी भी जिले के अंतर्गत किसी एक विभाग का मुख्य अधिकारी होता है जो अपने नियंत्रण में तथा अपनी जिम्मेदारी के साथ उसे विभाग का कार्य करता है और अपने कर्तव्य का पालन करता है। एसडीओ अधिकारी को अच्छा वेतन दिया जाता है। इसके अलावा सरकार की तरफ से रहने के लिए मकान दिया जाता है। आने जाने के लिए वाहन दिया जाता है तथा मुफ्त में संचार के लिए टेलीफोन की सुविधा प्रदान की जाती है। इसके अलावा विभिन्न प्रकार की सुविधाएं एसडीओ अधिकारी को सरकार की तरफ से मिलती है। इसीलिए आज के समय में अधिकांश युवा एसडीओ अधिकारी बनना चाहते हैं। लेकिन उन्हें यह नहीं पता कि असली व अधिकारी कैसे बनते हैं? इसलिए आज के इस आर्टिकल में हम आपको पूरी जानकारी विस्तार से बता चुके हैं। हमें उम्मीद है यह जानकारी आपको जरूर पसंद आई होगी।

Leave a Comment