Tehsildar Kaise Bane? 2023 में तहसीलदार बनने से जुड़ी संपूर्ण जानकारी

तहसीलदार बनने के लिए आपको क्या करना पड़ेगा और Tehsildar kaise bane? इसके बारे में आज के आर्टिकल में हम आपको details में जानकारी देने का प्रयास करेंगे। भारत के सभी जगहों पर Tehsildar के पद पर कई उम्मीदवारों को चयनित किया जाता है। Tehsildar पद के लिए सरकार के द्वारा भर्तियां भी निकाली जाती है और उन भर्तियों में चयनित होने के बाद उम्मीदवार को Tehsildar बनने का मौका मिलता है। राजस्थान जैसे राज्य में तहसीलदार पद को बहुत ही ज्यादा सम्मानजनक और ऊंचा पद माना जाता है। तहसीलदार और पटवारी राजस्थान राज्य का एक लोकप्रिय और सम्मानजनक पद है।

तहसीलदार कौन होते हैं?

तहसीलदार जो प्रत्येक तहसील के प्रभारी के रूप में होते हैं। जिले में जितनी भी तहसील है। प्रत्येक तहसील को संभालने वाले व्यक्ति को तहसीलदार कहा जाता है। दूसरे शब्दों में तहसीलदार के परिभाषा को परिभाषित किया जाए तो तहसील के प्रभारी को तहसीलदार कहा जाता है।

तहसीलदार तहसील के सभी जिम्मेदारियों को कार्यो को पूरा करने के लिए अपनी भूमिका निभाता है। तहसीलदार मुख्य रूप से तहसील के कई समस्याओं का निवारण करता है। भूमि अधिग्रहण मामले का सही फैसला सुनाता है। प्राकृतिक आपदाओं से जो नुकसान होता है। उन नुकसान के लिए उचित कार्रवाई करता है। दस्तावेज संबंधी कई मुख्य कार्य भी करता है और भूमि से संबंधित और टेक्स से जुड़े कार्यों के लिए भी तहसीलदार अपनी भूमिका निभाता है।

Tehsildar बनने के लिए जरूरी योग्यता in Hindi 2023

जो विद्यार्थी शुरुआत से ही भविष्य में तहसीलदार बनने के बारे में सोच बैठे हैं। उन विद्यार्थियों के लिए तहसीलदार बनने के लिए योग्यता मापदंड के बारे में जानकारी लेना बहुत ही ज्यादा जरूरी है। जो उम्मीदवार तहसीलदार बनने के ख्वाब में बैठा है उन उम्मीदवारों को नीचे दिए गए निम्नलिखित मापदंड को पूरा करना होगा।

  • तहसीलदार बनने के लिए उम्मीदवार के पास सबसे पहली योग्यता किसी भी विषय वर्ग के साथ उम्मीदवार न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता के तौर पर ग्रेजुएशन कंप्लीट होना चाहिए।
  • 12वीं कक्षा पास करने के बाद आपको किसी भी विषय वर्ग में ग्रेजुएशन की डिग्री हासिल करके होगी। क्योंकि यह तहसीलदार बनने के लिए जरूरी और न्यूनतम योग्यता है।
  • इसके अलावा उम्मीदवार के पास बेसिक Computer ज्ञान और राज्य की क्षेत्रीय भाषा का ज्ञान होना अनिवार्य है।
  • तहसीलदार बनने के लिए उम्मीदवार की उम्र न्यूनतम 21 वर्ष निर्धारित की गई है और अधिकतम 40 वर्ष निर्धारित की गई है। हालांकि सरकार के द्वारा आरक्षित जातियों को कई प्रकार की उम्र में छूट भी प्रदान करवाई जाती है।
  • यहां अनुसूचित जाति व अनुसूचित जनजाति के उम्मीदवारों को 5 साल की उम्र में छूट प्रदान करवाई जाती है और ओबीसी वर्ग से संबंधित उम्मीदवारों को 3 वर्ष की छूट प्रदान कराई जाती है।

तहसीलदार कैसे बने? (Tehsildar kaise bane in Hindi 2023)

Tehsildar kaise bane in Hindi

तहसीलदार बनने का सपना देखना जितना आसान है। उतना आसान तहसीलदार पद को हासिल करना बिल्कुल नहीं है। तहसीलदार बनने के लिए आपको कड़ी मेहनत करनी होती है। इसके साथ ही साथ यदि आपको तहसीलदार बनने की लगन और जुनून है और उसी के साथ आप तैयारी करते हैं। तो आप इस सपने को आसानी से पूरा कर सकते हैं।

अन्यथा किसी के दबाव में आकर आप तहसीलदार बनने का सपना देख रहे हैं या किसी के देखा देखी करके आप तहसीलदार बनने का सोच रहे हैं तो उसके लिए आपको बहुत ही ज्यादा मेहनत करनी पड़ेगी।

तहसीलदार बनने के लिए आपको नीचे दी गई प्रक्रिया से गुजरना होगा और उसी प्रक्रिया के साथ आप तहसीलदार पद पर चयनित हो सकते हैं।

1. लोक सेवा आयोग की भर्तियों में आवेदन करें (PSC Vacancy form 2023 apply Online)

राज्य सरकार के द्वारा लोक सेवा आयोग और सिविल सेवा परीक्षा का आयोजन प्रतिवर्ष किया जाता है। जिस प्रकार से तहसीलदार और आर ए एस व आइ ए एस के रिक्त पदों के आधार पर भर्तियों का आयोजन होता है। उन भर्तियों में आप अपना आवेदन लगाकर तहसीलदार बन सकते हैं।

2. जांच परीक्षा पास करें (Screening Test)

तहसीलदार बनने के लिए उम्मीदवार को सबसे पहले स्क्रीनिंग टेस्ट से गुजरना होता है। इस स्क्रीनिंग टेस्ट में उम्मीदवार को सामान्य ज्ञान से संबंधित प्रश्न पूछे जाते हैं। इस परीक्षा में पास होने वाले उम्मीदवार को मुख्य परीक्षा में बुलाया जाता है।

3. मुख्य परीक्षा पास करें (Mains)

उम्मीदवार जब जांच परीक्षा में पास हो जाता है तो उसे चरण के तौर पर उम्मीदवार को मुख्य परीक्षा के लिए बुलाया जाता है। मुख्य परीक्षा में भाग लेने के पश्चात उम्मीदवार को अच्छे से मुख्य परीक्षा को हल करके उसे पास करना होता है। जांच परीक्षा की तुलना में मुख्य परीक्षा काफी हद तक मुश्किल होती है। क्योंकि मुख्य परीक्षा का पेपर थोड़ा हाई लेवल का बनाया जाता है।

इस पेपर में आपको वैकल्पिक सवाल नहीं मिलते हैं। यहां आपको प्रत्येक सवाल का उत्तर लिखकर उत्तर तालिका में दर्ज करना होगा और उसके बाद उत्तर तालिका को जमा करवाना होता है। जो उम्मीदवार मुख्य परीक्षा में पास हो जाते हैं उन्हें अगले चरण के रूप में साक्षात्कार के लिए बुलाया जाता है।

4. साक्षात्कार पास करें (Interview)

प्रथम जांच परीक्षा और द्वितीय मुख्य परीक्षा में पास हो जाने के पश्चात उम्मीदवार को तीसरे चरण के तौर पर साक्षात्कार की एक कड़ी से गुजरना होता है। साक्षात्कार के लिए उम्मीदवारों को बुलाया जाएगा जो मुख्य परीक्षा पास कर चुके हैं। इस परीक्षा में विद्यार्थी के सामने कई ऑफिसर बैठे होते हैं और ऑफिसर के द्वारा पूछे जाने वाले सभी सवालों का जवाब आपको सही देना होगा। आपके इंटरव्यू के लेवल के आधार पर आपको नंबर मिलते हैं और इंटरव्यू में पास होने वाले उम्मीदवार को अगले चरण के तौर पर जॉइनिंग लेटर प्रदान करवा कर तहसीलदार के पद पर चयनित कर दिया जाता है।

अवश्य पढ़ें:-

Post Officer कैसे बने पूरी जानकारी।

नोटरी वकील क्या होता है और कैसे बने?

Stenographer क्या होता है और स्टेनोग्राफर कैसे बने?

तहसीलदार की सैलरी कितनी होती है? (Tehsildar Salary in Hindi 2023)

जब कोई भी उम्मीदवार अपने सपने को पूरा करने के लिए प्रयास करता है, तो उम्मीदवार को सबसे पहले उस पद पर नौकरी लेने के बाद उम्मीदवार को कितना पैसा मिलता है। इसके बारे में उम्मीदवार जानकारी लेने का प्रयास करता रहता है।

तहसीलदार बनने के बाद उम्मीदवार को कितनी सैलरी मिलेगी इसके बारे में यदि आप जानकारी लेना चाहते हैं। तो तहसीलदार बनने के बाद आपको शुरुआत में ₹9300 से लेकर ₹34800 तक की सैलरी प्रदान करवाई जाती है और साथ ही साथ ₹4800 ग्रेड पे के रूप में भी दिया जाता है। सरकारी नौकरी पर काम करने वाले सभी कर्मचारियों को ग्रेड पर और बेसिक सैलरी के साथ-साथ कई प्रकार के भत्ते भी उपलब्ध करवाए जाते हैं।

जब तहसीलदार पद पर कार्यरत उम्मीदवार 2 साल की अवधि पूरी कर लेता है, तो उम्मीदवार को पहला प्रमोशन मिलता है और पहले प्रमोशन के बाद उम्मीदवार की बेसिक सैलरी ₹15600 से लेकर ₹39002 प्रति महीना हो जाती है और ग्रेड पे ₹5400 हो जाता है। इसी आधार पर तहसीलदार को सरकारी भत्ते जैसे कि महंगाई भत्ता, यात्रा भत्ता, मकान किराया भत्ता, चिकित्सा भत्ता, पेंशन इत्यादि लाभ भी सरकार के द्वारा प्रदान करवाए जाते हैं।

Tehsildar के कार्य क्या होते हैं?

तहसीलदार पद पर काम करने वाले उम्मीदवार को नीचे दिए गए निम्नलिखित कार्य बड़ी जिम्मेदारी के साथ करने होते हैंः

  • तहसीलदार का पहला कार्य भूमि से संबंधित विवाद और भूमि से संबंधित समस्याओं का हल करना होता है।
  • भूमि बेचने और खरीदने के दौरान भी उस भूमि के कागजात का निरीक्षण तहसीलदार के द्वारा किया जाता है।
  • कई परिस्थिति में विवादित जमीन पर सरपंच म्यूटेशन नहीं भरता है तो ऐसे में तहसीलदार म्यूटेशन भरने का काम भी करता है।
  • राजस्व का उचित स्थान ग्रहण सुनिश्चित करने का मुख्य काम तहसीलदार का होता है।
  • जमीन से संबंधित पटवारी के द्वारा जो कार्य की रिपोर्ट मिलती है। उस रिपोर्ट को देखना तहसीलदार का कार्य है।
  • तहसील में रहने वाले सभी लोगों के लिए जाति प्रमाण पत्र निवास प्रमाण पत्र आय प्रमाण पत्र और अन्य प्रमाण पत्र पर तहसीलदार के हस्ताक्षर किए जाते हैं और यह काम तहसीलदार के द्वारा होता है।
  • तहसील में किसी भी प्राकृतिक आपदा की वजह से जो नुकसान होता है। उसकी भरपाई के लिए अभियान चलाना और मुआवजा देने के लिए कार्रवाई करने का काम तहसीलदार का होता है।

निष्कर्ष

देश में हर सरकारी पद पर नौकरी लेने के लिए वर्तमान समय में लाखों की संख्या में लोग बैठे हैं।.यानी कि प्रतिस्पर्धा की बात की जाए तो वर्तमान समय में प्रतिस्पर्धा बहुत अधिक है। लोग हर सरकारी नौकरी के लिए आवेदन लगाते हैं और उसके लिए प्रयास करते हैं। आज के आर्टिकल पर हमने आपको (Tehsildar kaise bane) तहसीलदार कैसे बने? इसके बारे में डिटेल में जानकारी दे दी है। हमें उम्मीद है, कि हमारे द्वारा दी गई जानकारी आपको पसंद आई होगी। यदि किसी व्यक्ति को हमारे इस आर्टिकल से जुड़ा हुआ कोई भी सवाल है तो वह हमें कमेंट के माध्यम से बता सकता है।

Leave a Comment