WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

UGC Net और CSIR Net में क्या अंतर है? 2024 में बेहतर क्या रहेगा

वर्तमान समय में देश में विभिन्न प्रकार की परीक्षाएं आयोजित होती है जिसकी वजह से विद्यार्थियों को काफी परीक्षाओं में कन्फ्यूजन हो जाता है। अनेक सारी परीक्षाएं विद्यार्थियों को एक समान ही लगती है जबकि कुछ एक ही समान परीक्षाओं को विद्यार्थी अलग-अलग समझने की गलती कर बैठते हैं। तो आज के इस आर्टिकल में हम आपको दो महत्वपूर्ण परीक्षाओं के बारे में जानकारी देंगे और उन दो परीक्षाओं के बारे में अंतर बताएंगे, जिसे जानने के बाद आपको पता चल जाएगा कि UGC Net और CSIR Net में क्या अंतर है। बता देते हैं कि यह दोनों ही देश की महत्वपूर्ण परीक्षा है जिसमें हर वर्ष लाखों की संख्या में युवाओं द्वारा हिस्सा लिया जाता है।

UGC NET का full form University Grants Commission National Eligibility Test है, वहीं CSIR NET का पूरा नाम Council of Scientific & Industrial Research National eligibility Test है। दोनों ही परीक्षाओं में एक परीक्षा कॉमन है और वह है NET यानी कि नेशनल एलिजिबिलिटी टेस्ट। यह एक राष्ट्रीय स्तर की पात्रता परीक्षा होती है जो किसी भी परीक्षा के लिए आवेदन करने वाले उम्मीदवार की योग्यता को सिद्ध करती है और इस परीक्षा को पास करने के बाद संबंधित परीक्षा के लिए उम्मीदवार का आवेदन स्वीकार कर लिया जाता है। जो परीक्षाएं या कोर्स महत्वपूर्ण होते हैं उनके लिए ही इस तरह के नेशनल एलिजिबिलिटी टेस्ट आयोजित करवाए जाते हैं।

UGC Net और CSIR Net में अंतर —

UGC Net Vs CSIR Net

वर्तमान समय में हमारे देश में लाखों की संख्या में युवाओं द्वारा राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित होने वाली इन दोनों ही परीक्षाओं के लिए आवेदन किया जाता है। इन परीक्षाओं को पास करने वाले उम्मीदवार विश्वविद्यालय और कॉलेज में लेक्चरर की Job पा सकते हैं, साथ ही अपने पीएचडी को भी आगे बढ़ा सकते हैं। इसके साथ ही उम्मीदवारों को जूनियर रिसर्च फेलोशिप से पुरस्कृत भी किया जाता है। इन दोनों ही परीक्षाओं को अलग-अलग उद्देश्य से आयोजित करवाई जाता है। लेकिन दोनों ही परीक्षाएं राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित होने वाली पात्रता परीक्षा है जिसके आधार पर उम्मीदवार की योग्यता साबित होती है।

NET यानी नेशनल एलिजिबिलिटी टेस्ट परीक्षा का अर्थ तो दोनों ही परीक्षाओं के साथ सम्मान ही है। लेकिन दोनों ही अलग-अलग परीक्षाएं हैं। इसीलिए यहां पर राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा का उद्देश्य भी अलग हो जाता है क्योंकि इस परीक्षा को संबंधित परीक्षा के आधार पर आयोजित करवाए जाता है जिसमें उससे संबंधित परीक्षा के आधार पर ही सिलेबस तथा एग्जाम पैटर्न निर्धारित किया हुआ होता है। परंतु अधिकांश विद्यार्थी परीक्षाओं को एक समान समझ लेते हैं, जिसकी वजह से उन्हें काफी नुकसान भी झेलना पड़ सकता है। तो आज के इस आर्टिकल में हम आपको पूरी जानकारी के साथ विस्तार पूर्वक UGC Net और CSIR Net के विषय में बता रहे हैं।

UGC Net और CSIR Net परीक्षाएं क्यों आयोजित करवाई जाती है? —

UGC Net और CSIR Net यह दोनों ही राष्ट्रीय स्तर की परीक्षाएं है, इसमें प्रतिवर्ष लाखों उम्मीदवार भाग लेते हैं। जिसकी वजह से यह देश की प्रमुख के साथ लोकप्रिय परीक्षाएं भी बन चुकी है। इस परीक्षा का आयोजन जूनियर रिसर्च फैलोशिप के लिए उम्मीदवारों की योग्यता का परीक्षण करने और लेक्चरर के लिए योग्यता जांचने के लिए किया जाता है। वही अगर हम बात करें, काउंसिल फॉर साइंटिफिक एंड इंडस्ट्रियल रिसर्च CSIR NET परीक्षा की दो यह परीक्षा साइंस, लाइव साइंस, फिजिक्स, केमिस्ट्री सहित साइंस स्ट्रीम के सभी विषयों के लिए होती है।

UGC Net और CSIR Net परीक्षाओं के लिए निर्धारित की गई आयु सीमा —

प्रत्येक परीक्षा के लिए एक निश्चित आयु सीमा निर्धारित की जाती है जिसके आधार पर ही उस परीक्षा के लिए आवेदन स्वीकार किए जाते हैं क्योंकि किसी भी परीक्षा के लिए एक मिनिमम और मैक्सिमम आयु सीमा के उम्मीदवार का होना अनिवार्य है तथा एक साथ आवेदन करने वाले आवेदकों के बीच उम्र का ज्यादा अंतर भी नहीं होना चाहिए। इसीलिए CSIR Net उम्मीदवार की अधिकतम आयु 28 वर्ष है। वही UGC Net के लिए अधिकतम आयु 30 वर्ष निर्धारित की गई है। आपकी जानकारी के लिए बता देते हैं कि इन दोनों ही परीक्षाओं में लेक्चररशिप के लिए कोई भी अधिकतम आयु सीमा निर्धारित नहीं की गई है।

UGC Net का परीक्षा पैटर्न क्या है —

आपकी जानकारी के लिए बता देते हैं कि यह दोनों ही परीक्षाएं कंप्यूटर आधारित परीक्षाएं हैं। लेकिन इन दोनों ही परीक्षाओं का एग्जाम पैटर्न अलग अलग है और इन दोनों ही परीक्षाओं में अलग-अलग प्रकार के प्रश्न आते हैं। अगर हम बात करें, UGC Net परीक्षा की तो इस परीक्षा में दो पेपर आते हैं यानी पेपर-1 और पेपर-2 । पहले पेपर में सो नंबर के 50 प्रश्न पूछे जाते हैं, वही दूसरे पेपर में 100 प्रश्न 200 नंबर के लिए पूछे जाते हैं। इस परीक्षा के लिए पूरे 3 घंटे का समय निर्धारित किया गया है तथा इस परीक्षा में किसी भी प्रकार की नेगेटिव मार्किंग नहीं की जाती है। बता दें कि इस परीक्षा को सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन द्वारा आयोजित करवाया जाता है।

CSIR Net का परीक्षा पैटर्न क्या है —-

जैसा कि हमने आपको बताया है इन दोनों ही परीक्षाओं का एग्जाम पैटर्न अलग-अलग है, तो एग्जाम पैटर्न की बात करें तो, इस परीक्षा में वस्तुनिष्ठ प्रकार के प्रश्न पूछे जाते हैं। यह परीक्षा कुल 200 नंबर की होती है जिसके लिए 3 घंटे का समय दिया जाता है। बता देते हैं कि इस परीक्षा में कुल 120 प्रश्न पूछे जाते हैं जिसमें 3 भाग होते हैं। पार्ट-A में 20 प्रश्न पूछे जाते हैं पार्ट-B में 40 और पार्ट-C में 60 प्रश्न होते हैं। इस परीक्षा के लिए नेगेटिव मार्किंग निर्धारित नहीं की गई है यानी आप इस परीक्षा में किसी प्रश्न का गलत उत्तर दे देते हैं तो उसके बदले में आपके अंक नहीं काटे जाएंगे। इस परीक्षा का आयोजन Council of Scientific & Industrial Research द्वारा करवाया जाता है।

UGC Net और CSIR Net परीक्षाओं में अन्‍य अंतर —

UGC Net और CSIR Net परीक्षाएं दोनों ही देश की महत्वपूर्ण और लोकप्रिय परीक्षाएं हैं, जिसमें हर वर्ष लाखों की संख्या में युवाओं द्वारा आयोजन किया जाता है और इन परीक्षाओं को पास करके युवा अपने आगे की पढ़ाई को चुनते हैं। अब तक इस आर्टिकल में हम आपको इन दोनों ही परीक्षा के बारे में पूरी जानकारी विस्तार पूर्वक बता चुके हैं और यह भी बता चुके हैं कि दोनों परीक्षाओं में क्या अंतर है। तो अब आपको एक लाइन में बता देते हैं कि UGC Net और CSIR Net परीक्षाएं दोनों ही अलग-अलग विषयों के लिए आयोजित करवाई जाती है जिसमें अलग सिलेबस होता है। अलग एग्जाम पैटर्न होता है तथा इन दोनों ही परीक्षाओं के लिए आवेदकों की योग्यता भी अलग-अलग है।

यदि हम इन परीक्षाओं के सिलेबस की बात करें तो, UGC NET परीक्षा के सिलेबस में कला, मानविकी, सामाजिक विज्ञान, वाणिज्य इत्यादि विभिन्न प्रकार के विषयों से संबंधित प्रश्न पूछे जाते हैं, इसके अलावा UGC NET में विज्ञान के अलावा अन्य क्षेत्र में पोस्ट ग्रेजुएशन होना अनिवार्य है, वहीं अगर हम CSIR NET परीक्षा की बात करें तो इसमें जीवन विज्ञान, भौतिक विज्ञान, रासायनिक विज्ञान, गणितीय विज्ञान और पृथ्वी वायुमंडलीय महासागर और ग्रह विज्ञान आदि विषयों के प्रश्‍न पूछे जाते हैं हैं। तथा CSIR NET के लिए विज्ञान क्षेत्र में पोस्ट ग्रेजुएशन होना अनिवार्य है।

People Also Read:-

CSIR Net Syllabus का सिलेबस क्या होता है?

NET ऑफ JRF में क्या अंतर होता है?

पोस्ट ग्रेजुएशन करने के बाद करियर कैसे बनाएं?

लड़कियों के लिए सबसे बेहतर कोर्स कौन सा हो सकता है?

Top 10+ Online पैसा कमाने के आसान तरीकों की जानकारी.

Conclusion

UGC Net और CSIR Net दोनों ही अलग-अलग परीक्षा है जिसमें अनेक सारी समानता तथा विभिन्नताएं हैं। अनेक सारी विद्यार्थी इन परीक्षाओं को सम्मान समझने की गलती कर रहे थे, तो इस आर्टिकल में हमने आपको पूरी जानकारी के साथ विस्तार पूर्व बताकर यह समझा दिया है कि यह दोनों ही अलग-अलग परीक्षाएं हैं। इन परीक्षाओं को किस लिए आयोजित करवाए जाता है। इन परीक्षाओं के लिए योग्यता क्या है, इन परीक्षाओं का सिलेबस क्या है इत्यादि पूरी जानकारी इस आर्टिकल में आप विस्तार पूर्वक प्राप्त कर सकते हैं। हमें उम्मीद है यह जानकारी आपको जरूर पसंद आई होगी। अगर आपका इस आर्टिकल से संबंधित कोई भी प्रश्न है? तो आप कमेंट करके पूछ सकते हैं। हम आपके द्वारा पूछे गए प्रश्न का उत्तर समय पर देने की पूरी कोशिश करेंगे।